ेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेप्रयागराज, विधि संवाददाता। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इटावा के दंपति के बीच रिश्तों में कडुआहट व बच्चे की इच्छा को देखते हुए कहा है कि माता-पिता अपने बच्चों की खुशी के लिए आपसी मतभेद दूर करें। पिता अपने बच्चे का नैसर्गिक संरक्षक होता है।

पति-पत्नी में परस्पर हत्या की कोशिश जैसे गंभीर आरोप -प्रत्यारोप को लेकर पिता के चंगुल से छुड़ाने के लिए बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर करना उचित नहीं है। कोर्ट ने याचिका पर हस्तक्षेप करने से इन्कार कर दिया।

कोर्ट ने आदेश दिया कि याची अपने पिता के साथ रहेगा। मां और पिता हर रविवार एक-दूसरे के घर जाकर बच्चों से मुलाकात कर सकते हैं। इस दौरान विवाद नहीं करेंगे। कोई अवरोध उत्पन्न नहीं करेगा। साथ ही एफआइआर के विवेचना अधिकारी को निर्देश दिया है कि वे दोनों की काउंसलिंग व मिडिएशन कराएं जिससे कि उनके बीच के मतभेद दूर हो सकें।

कोर्ट ने कहा परिवार में संबंध बिगड़ने का बच्चों पर बुरा असर पड़ता है। इसलिए मतभेद दूर करें। यह आदेश न्यायमूर्ति सौरभ श्याम शमशेरी ने सात वर्षीय ग्रंथ वर्मा की तरफ से मां आशी वर्मा द्वारा दाखिल बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर दिया है। मामले में याची की मां आशी वर्मा ने आरोप लगाया कि उसके पति गौरव वर्मा ने

उसके सात वर्षीय बच्चे को बंदी बना रखा है। उनका पति वर्षो से उत्पीड़न करता रहा है और पुलिस के साथ बच्चे को लेने गई तो दुर्व्यवहार किया। लिहाजा, उसे उसका बच्चा वापस दिलाया जाए। कोर्ट ने मामले में सुनवाई करते हुए कहा कि बच्चा अपने पिता केसाथ खुश है और वह वहीं रहकर पढ़ाई करना चाहता है। उसे अपने पिता से कोई शिकायत नहीं है। ऐसे में

याचिका को स्वीकार नहीं किया जा सकता है। हालांकि, कोर्ट ने मां को अपने बच्चे से मिलने से छूट दी।दूसरा छोटा बच्चा मां के साथ रह रहा है।

Edited By: Ankur Tripathi