प्रयागराज, जेएनएन। इंडोनेशिया के सात नागरिकों समेत सभी दिल्ली के निजामुद्दीन तब्लीगी जमात में शामिल लोगों को करेली के महबूबा पैलेस में शिफ्ट कर दिया गया। कोरोना संदिग्ध होने के चलते स्थानीय लोगों विरोध कर रहे थे, जिसके बाद पुलिस व प्रशासन ने शिफ्टिंग की कार्रवाई की। इसके पहले उन्‍हें कमला भवन में कोरेंटाइन किया गया था।

कमला भवन में बनाए क्‍वारंटाइन सेंटर में रखा गया था

मंगलवार रात अधिकारियों को पता चला था कि दिल्ली के निजामुद्दीन तब्लीगी जमात में शामिल होकर कुछ लेकर प्रयागराज आए हैं और शाहगंज के अब्दुल्ला मस्जिद में ठहरे हुए हैं। इस पर डीएम, एसएसपी मेडिकल टीम और फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। जांच में पता चला कि मस्जिद व मुसाफिरखाना में इंडोनेशिया के सात और केरल व पश्चिम बंगाल के एक-एक व्यक्ति सहित कुल 36 लोग मौजूद हैं। एहतियातन सभी को कमला भवन में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में भेज दिया गया। उनके कोरोना से संक्रमित होने की आशंका पर स्थानीय लोगों ने विरोध शुरू कर दिया और शिकायतें की।

स्‍थानीय लोगों के विरोध के बाद करेली में किया गया शिफ्ट

इस पर एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव, एडीएम सिटी अशोक कनौजिया, सीओ व कई थाने की फोर्स स्वास्थ्य टीम के साथ पहुंची। फिर सभी को बड़ी ही सतर्कता के साथ एंबुलेंस के जरिए करेली के जीटीबी नगर स्थित महबूबा पैलेस में शिफ्ट कर दिया गया। वहां मेडिकल टीम के साथ ही पुलिस भी लगाई गई है। एडीएम सिटी ने बताया कि स्थानीय लोगों के विरोध के चलते सभी को करेली में शिफ्ट किया गया है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस