प्रयागराज, जेएनएन। सदानीरा (गंगा) किनारे बसे गांवों में जैविक खेती पर जोर दिया जा रहा है। गांव से एक किसान को चंद्रशेखर आजाद कृषि विवि कानपुर प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। प्रशिक्षित किसान को मास्टर ट्रेनर का दर्जा दिया जाएगा, जो अन्य किसानों को प्रशिक्षण देंगे। यह बातें प्रदेश के कृषि, कृषि शिक्षा एवं कृषि अनुसंधान मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने कहीं।

जिले में गंगा किनारे के 111 गांवों में अब कराई जाएगी जैविक खेती

कृषि मंत्री अलोपीबाग स्थित अखिल भारतीय सरदार पटेल सेवा संस्थान में पांच दिनी किसान मेले के उद्घाटन पर संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि गंगा की स्वच्छता और पवित्रता बरकरार रखने के लिए किनारे के गांवों में फसलों में कीटनाशकों के प्रयोग और रासायनिक खादों के प्रयोग न करने के लिए किसानों को जागरूक किया जाएगा। प्रदेश सरकार की ओर से 27 से 31 जनवरी तक गंगा यात्रा शुरू होगी। इसके पहले जैविक खेती की कार्ययोजना तैयार हो जाएगी। प्रयागराज में गंगा किनारे के 111 गांवों में अब जैविक खेती ही कराई जाएगी। कहा कि मिट्टी के पोषण को बचाकर ही बच्चों और महिलाओं को कुपोषण से बचाया जा सकता है। उन्नति के लिए सिर्फ खेती ही नहीं बल्कि पशु पालन तथा शाक-सब्जी उत्पादन व फलोत्पादन भी करना होगा। इनके लिए सरकार विभिन्न प्रकार की योजनाएं चला रही है।

गेहूं और धान के खरीद मूल्य को सरकार ने बढ़ाया

कृषि यंत्रों पर अनुदान भी दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में कृषि योजनाएं जमीन पर संचालित हो रही हैैं, जिससे खाद्यान्न उत्पादन, फलोत्पादन में बढ़ोतरी हुई है। देश और प्रदेश में खाद्यान्न उत्पादन के आंकड़े भी गिनाए। गेहूं और धान खरीद मूल्य को भी भाजपा सरकार ने ही बढ़ाया है। गोआश्रय केंद्र तक खोले गए। देशी गायों की जो नस्लें अपने देश में हैैं, उनके दूध में पोषक तत्व ज्यादा हैैं। कहा कि किसान बाजार के मुताबिक खेती व जायद का रकबा बढ़ाने और अगेती खेती करें।

किसान सम्मान निधि में मंडल में चार लाख किसान लाभ पा चुके हैं

कृषि मंत्री ने बताया कि किसान ऋण मोचन योजना के तहत प्रयागराज मंडल में दो लाख 36 हजार किसानों के लगभग 930 करोड़ कर्ज माफ किया गया। किसान सम्मान निधि में मंडल में चार लाख किसान लाभ पा चुके हैं। मेले में कृषि यंत्रों, जैविक खाद बनाने तथा फसलों के उत्पादन के स्टॉल भी लगाए गए थे। इस अवसर पर एडीएम नजूल गंगाराम गुप्त, संयुक्त निदेशक, कृषि आरबी सिंह, उप निदेशक कृषि विनोद कुमार, जिला कृषि अधिकारी डॉ.अश्विनी कुमार सिंह, मंडी सचिव रेनू वर्मा मौजूद रहीं।

मंत्री से धान क्रय केंद्रों में अनियमिता की शिकायत

कृषि मंत्री कृषि क्षेत्र में जब सरकार की उपलब्धियां गिना रहे थे तभी कई किसान खड़े होकर धान क्रय केंद्रों में अनियमितता की शिकायत करने लगे। मंत्री ने उनकी शिकायतें सुनीं और जांच कराने का आश्वासन भी दिया।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस