प्रयागराज, जेएनएन। ऑपरेशन क्लीन प्रयागराज के तहत अब फरार माफिया अशरफ की भी घेराबंदी तेज की जाएगी। एक लाख रुपये के इनामी भगोड़े पूर्व विधायक अशरफ पर पुलिस इनाम तो बढ़ाती जा रही है लेकिन गिरफ्तारी के प्रयास नहीं हो रहे थे। एडीजी जोन के निर्देश पर अब अशरफ की गिरफ्तारी के लिए नए सिरे से प्रयास शुरू किए गए हैं।

क्राइम ब्रांच को मिली हिदायत

क्राइम ब्रांच को हिदायत दी गई है कि किसी भी सूरत में उसकी गिरफ्तारी की जाए। विधायक राजू पाल हत्याकांड में आरोपित शहर पश्चिमी का पूर्व विधायक अशरफ तीन साल से भी ज्यादा समय से फरार है। उसके भाई पूर्व सांसद अतीक अहमद तब से जेल में बंद हैं। चार बार कुर्की के बावजूद अशरफ कोर्ट में हाजिर नहीं हुआ। पहले उस पर पांच हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था।

इनामी की राशि बढ़ाने के बावजूद पकड़ में नहीं आ रहा अशरफ

एडीजी स्तर से इसे एक लाख रुपये कर दिया गया है। अब शासन से इनाम राशि ढाई लाख रुपये किए जाने की संस्तुति की गई है। इनामी की राशि बढ़ाने के बावजूद अशरफ को पकड़ने में पुलिस समेत सभी एजेंसियां नाकाम साबित हो चुकी हैं। सीबीआइ ने भी राजू पाल हत्या कांड में अन्य आरोपितों समेत अशरफ को तलब किया है।

बोले एडीजी जोन-सिर्फ इनाम की राशि बढ़ाने से क्या होगा

एडीजी जोन सुजीत पांडेय ने अतीक गिरोह पर कार्रवाई की समीक्षा की तो उन्हें अशरफ की फरारी का पता चला। उन्होंने इसे गंभीरता से लेते हुए निर्देश दिया कि उसकी गिरफ्तारी के लिए ठोस प्रयास किया जाए। कहा कि सिर्फ इनाम की राशि बढ़ाने से क्या होगा? सूचना जुटाकर भेजी जाएगी टीम: एडीजी ने बताया कि अशरफ की गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच की एक टीम खास तौर पर निगरानी के लिए लगाई गई है। उसके बारे में सूचनाएं जुटाकर पुलिस टीम बाहर भेजी जाएगी। ऐसा असंभव है कि वह अपने करीबियों से संपर्क नहीं करता होगा। उसकी लोकेशन हासिल करने के लिए खास कोशिश करनी होगी। अब नए सिरे से तलाश शुरू होगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस