जागरण संवाददाता, इलाहाबाद : इलाहाबाद विश्वविद्यालय में पीजीएटी (परास्नातक प्रवेश परीक्षा) का तीन दिवसीय क्रम सोमवार से शुरू हुआ। पहले दिन पंजीकृत परीक्षार्थियों में 91 प्रतिशत शामिल हुए। सभी स्थानों पर शांतिपूर्ण ढंग से परीक्षा संपन्न कराई गई। इलाहाबाद सहित देश के नौ शहरों के 33 परीक्षा केंद्रों में परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। परीक्षा सुबह 9 से 11 बजे के मध्य आयोजित की गई। अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन से ज्यादा ऑफलाइन परीक्षा को वरीयता दी।

प्रवेश परीक्षा के माध्यम से एमए, एमएसी एवं एमकॉम आदि परास्नातक कक्षाओं में दाखिले दिए जाएंगे। पहले दिन प्रवेश परीक्षा के लिए 15 हजार अभ्यर्थी परीक्षा के पंजीकृत रहे। नगर में छह सेंटर ऑनलाइन एवं 11 सेंटर ऑफलाइन बनाए गए हैं। ऑफलाइन और ऑनलाइन प्रवेश नगर के बाहर के केंद्रों में आगरा, कानपुर, बरेली, लखनऊ, बनारस, गोरखपुर, पटना और दिल्ली शामिल हैं। इन सभी केंद्रों पर क्रमश एक-एक ऑनलाइन एवं ऑफलाइन केंद्र हैं। प्रवेश परीक्षा निदेशक प्रो. एचएस उपाध्याय ने बताया कि ऑनलाइन और ऑफलाइन प्रवेश परीक्षा की शुचिता के लिए व्यापक इंतजाम किए गए। सोमवार को सर्वाधिक परीक्षार्थी इलाहाबाद एवं गोरखपुर में बैठे। सबसे कम परीक्षार्थी पटना एवं बरेली में शामिल हुए। प्रवेश परीक्षा के लिए छात्र छात्राओं के लिए न्यूनतम अर्हता अंक निर्धारित हैं। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 30 प्रतिशत, ओबीएसी वर्ग के अभ्यर्थियों को 27 प्रतिशत अंक लाना आवश्यक होगा। एससी-एसटी के अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम अर्हता अंक निर्धारित नहीं किए गए हैं। वर्तमान सत्र में आवेदकों को प्रवेश में प्राथमिकता प्रदान करने के लिए कटौती की जाएगी। प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय वर्ष के गैप के लिए क्रमश: 5, 10 एवं 15 प्रतिशत अंकों की कटौती की जाएगी। अधिकतम कटौती 15 प्रतिशत से अधिक नहीं होगी। अवशेष अंक मेरिट में दर्शाए जाएंगें। प्रवेश परीक्षा का क्रम छह जून तक चलेगा।

-----

मुक्त विश्वविद्यालय में ऑनलाइन दाखिले आज से

इलाहाबाद : उप्र राजर्षि टंडन टंडन मुक्त विश्वविद्यालय में जुलाई सत्र की प्रवेश प्रक्रिया मंगलवार से प्रारंभ हो रही है। प्रदेश के सभी 11 क्षेत्रीय केंद्रों इलाहाबाद, वाराणसी, गोरखपुर, लखनऊ, बरेली, कानपुर, आगरा, झासी, नोएडा, मेरठ तथा फैजाबाद से संबद्ध अध्ययन केंद्रों में शिक्षार्थी ऑनलाइन प्रवेश ले सकते हैं। प्रवेश प्रभारी डॉ. आरपीएस यादव ने बताया मुक्त विश्वविद्यालय ने कई रोजगारपरक एवं कौशल विकास युक्त कार्यक्रम प्रारंभ किए हैं। वर्तमान में अत्यंत उपयोगी एवं समसामयिक पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन रिमोट सेन्सिंग तथा कृषि के क्षेत्र में रोजगारपरक कार्यक्रमों के तहत डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर, डिप्लोमा इन एग्री बिजनेस मैनेजमेंट, सर्टीफिकेट इन गुड्स एंड सर्विस टैक्स (सीजीएसटी) तथा एकल विषय में द्वि-वर्षीय प्रमाण पत्र (कला एवं विज्ञान वर्ग) आदि अनेक कार्यक्रम इस सत्र से प्रारंभ किए जा रहे हैं। पाठ्यक्रमों की विस्तृत जानकारी विश्वविद्यालय की बेवसाइट पर उपलब्ध है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस