प्रयागराज, जागरण संवाददाता। यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के नतीजे घोषित कर दिए हैं। शासन के निर्देश के अनुसार किसी को फेल यानी अनुत्‍तीर्ण नहीं किया गया। मूल्यांकन के लिए जो मानक तय किए गए, उसे लेकर कुछ विद्यार्थी उत्साहित हैं। उनका कहना है कि अच्छे अंक मिले हैं। वहीं कई ऐसे विद्यार्थी भी हैं जो परिणाम से असंतुष्ट हैं। उनका कहना है कि हाईस्कूल में अच्छे अंक मिले थे। इंटरमीडिएट में इतने कम अंक कैसे दे दिए गए। यदि परीक्षा देने का अवसर मिलता तो सही मूल्यांकन होता है।

जानें क्‍या कहते हैं विद्याथी

हाईस्कूल की परीक्षा में 85 प्रतिशत अंक मिले थे। इस बार इंटरमीडिएट में 76 प्रतिशत अंक मिले हैं। अंग्रेजी में पिछले वर्ष की तुलना में 30 अंक कम दिए गए। मूल्यांकन ठीक नहीं हुआ है।

- रिजुतम यादव, इंटरमीडिएट, स्व. जवाहर यादव बालिका इंटर कॉलेज पैगंबरपुर

महामारी के दौरान परीक्षा न कराना बिलकुल ठीक रहा। मूल्यांकन के लिए तो तरीका अपनाया गया वह संतोष जनक है। 80 प्रतिशत अंक मुझे मिले हैं। अब आगे की तैयारी करने में अपना पूरा ध्यान लगाएंगे।

- आयुषी यादव, इंटरमीडिएट, सेंटएंथोनी कान्वेंट गर्ल्‍स इंटर कॉलेज

बोर्ड ने विद्यार्थियों के मूल्यांकन का जो तरीका अपनाया है वह बिलकुल ठीक है। मुझे 91.3 प्रतिशत अंक मिले हैं। पिछली कक्षाओं और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर यह अंक मिला है।

- यशस्वी पांडेय, हाईस्कूल, सेंटएंथोनी कान्वेंट गल्र्स इंटर कॉलेज

89 प्रतिशत अंक मिले हैं। यदि परीक्षा देने का अवसर मिलता तो निश्चित रूप से अधिक अच्छे नतीजे आते। कक्षा नौ में ठीक से पढ़ाई न करने की वजह से पिछली बार ठीक नहीं मिले। उसका असर इस बार भी रहा।

-अखिलेश पांडेय, हाईस्कूल, ज्वाला देवी इंटर कालेज सिविल लाइंस

Edited By: Brijesh Srivastava