प्रयागराज, जेएनएन। गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई ने प्रयागराज शहर में सीवर लाइनों के कनेक्शन घरों में दिए हैं। इनमें से ज्यादातर जगहों पर सड़कें और गलियां खोदकर छोड़ दी गई हैं। खस्ताहाल सड़कों और गलियों में लोगों का आना-जाना मुश्किल है। अक्सर लोग गिरकर चुटहिल भी हो रहे हैं। खास यह कि स्थानीय लोगों और पार्षद की शिकायत का भी असर अधिकारियों पर नहीं पड़ रहा है।

शिवकुटी क्षेत्र में उच्च शिक्षा अधिकारी माया निरंजन वाली गली, शशिरानी स्कूल से गुप्ता तेल वाले की गली, चिल्ला मलिन बस्ती, सीवरेज पंङ्क्षपग स्टेशन वाली रोड, शिवकुटी मेला रोड पर बब्बू इक्का की गली में महीनों पहले इकाई द्वारा सीवर लाइन के कनेक्शन के लिए खोदाई की गई थी। हालांकि इन सड़कों और गलियों को नहीं बनवाया गया। महावीर पुरी में करीब आठ सौ मीटर सड़क पर तीन साल पहले सीवर कनेक्शन का काम शुरू किया गया, जो पूरा नहीं किया गया। अब इसी रोड पर चकर्ड प्लेट बिछाई जा रही है, ताकि माघ मेले में श्रद्धालुओं की भीड़ बढऩे पर लखनऊ, प्रतापगढ़ के लोगों को इधर से निकाला जा सके।

कोयला काड़ी मोहल्ला में भी गलियां खोदकर तहस-नहस कर दी गई हैं, जिसे अब तक नहीं बनवाया गया। पार्षद कमलेश तिवारी का कहना है कि खोदी गई सड़कों और गलियों को बनवाने के लिए जल निगम और इकाई के अधिकारियों से लगातार कहा जा रहा है लेकिन, कोई सुनने वाला नहीं है। सड़कें-गलियां बदहाल होने से अक्सर लोग गिरकर घायल हो रहे हैं। इकाई के अधिकारी सीवर लीकेज भी ठीक नहीं कराते हैं। जलकल विभाग के अधिकारियों से कहकर लीकेज ठीक कराया जाता है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप