प्रयागराज, जागरण संवाददाता। Prayagraj Airport प्रयागराज को हवाई मार्ग के जरिए देश के अलग-अलग शहरों से जोड़ने के लिए 1 जनवरी 2019 को प्रयागराज सिविल एयरपोर्ट Prayagraj Civil Airport की शुरुआत हुई थी। अब एयरपोर्ट का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट Pandit Deendayal Upadhyay Airport कर दिया गया है। एयरपोर्ट ने अपने साढ़े तीन वर्ष के सफर में कई उपलब्धियां हासिल की है। यात्री सुविधाओं में विस्तार किया। नए शहरों से कनेक्टिविटी का क्रम लगातार जारी है।

कार्गो सेवा की एयरपोर्ट पर शुरूआत : सिविल एयरपोर्ट के विस्तार की योजना पर काम चल रहा है। कार्गो सेवा की भी शुरुआत एयरपोर्ट पर हो चुकी है। कार्गो सेवा की भी शुरुआत प्रयागराज के एयरपोर्ट पर हो चुकी है। बीते साढ़े तीन वर्षों में यात्रियों की संख्या के मामले में भी प्रयागराज एयरपोर्ट ने ऊंचाई छू ली है। यहां प्रयागराज एयरपोर्ट से जुड़ी कुछ विशेष बातों को जानें।

15 लाख लोगों ने किया सफर : प्रयागराज एयरपोर्ट प्रशासन ने 1 जनवरी 2019 से लेकर 31 जुलाई 2022 तक का यात्री संख्या का आंकड़ा जारी किया है। इस आंकड़े के अनुसार एयरपोर्ट संचालन के बाद अब तक 15 लाख 1344 यात्रियों ने आवागमन किया। 8 सितंबर 2021 को प्रयागराज एयरपोर्ट पर 10 लाख यात्रियों की संख्या पूरी हुई थी।

अंतरराष्‍ट्रीय फ्लाइट एक भी नहीं फिर भी उपलब्धि : एयरपोर्ट की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यहां अभी किसी भी अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट का संचालन नहीं किया जा रहा है। केवल घरेलू फ्लाइटों के संचालन से ही 15 लाख लोगों को सफर कराया गया है। अपने आप में या एक बड़ी उपलब्धि है और भविष्य में प्रयागराज में हवाई यातायात की अपार संभावनाएं नजर आने लगी है। मौजूदा समय में उत्तर प्रदेश लखनऊ और वाराणसी एयरपोर्ट पर ही यात्रियों की यह संख्या देखने को मिलेगी। हालांकि या दोनों एयरपोर्ट अंतरराष्ट्रीय फ्लाइटों का भी संचालन करते हैं लेकिन, प्रयागराज एयरपोर्ट ने घरेलू फ्लाइटों से ही रिकॉर्ड बना दिया है।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने किया था उद्घाटन : प्रयागराज सिविल एयरपोर्ट के बनने से पहले बमरौली एयर फोर्स स्टेशन से ही फ्लाइटों का संचालन हुआ करता था। हालांकि सेना की अपनी गतिविधियां, सुरक्षा के कारण, समेत कई तकनीकी पहलुओं के कारण यहां से हवाई यातायात को उड़ान सही ढंग से नहीं मिल पा रही थी। इसके बाद प्रयागराज में अलग से सिविल एयरपोर्ट बनाने की तैयारी शुरू की गई। कुंभ के पहले युद्ध गति से एयरपोर्ट तैयार किया गया और 16 दिसंबर 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रयागराज एयरपोर्ट का उद्घाटन किया।

12 शहरों के लिए है फ्लाइट : पंडित दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट प्रयागराज से इस समय देश के 12 आ शहर सीधे तौर पर हवाई मार्ग के जरिए जुड़ गए हैं। इसमें दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, गोरखपुर, भुवनेश्वर, पुणे, रायपुर, भोपाल, इंदौर, देहरादून, बिलासपुर और लखनऊ के लिए फ्लाइट उपलब्ध है। दिल्ली के लिए एलाइंस एयर और इंडिगो एयरलाइंस दोनों फ्लाइट का संचालन करती हैं। बिलासपुर के लिए एलाइंस एयर हवाई सुविधा का संचालन कर रही है। जबकि अन्य शहरों की हवाई कनेक्टिविटी की सुविधा इंडिगो एयरलाइंस द्वारा दी जा रही है।

चित्रकूट, अलीगढ़, मुरादाबाद, बरेली के लिए अब छोटे विमान सुविधा : प्रयागराज शहर से देश के कई और शहरों को हवाई मार्ग के जरिए जोड़ने की रणनीति पर लगातार काम चल रहा है और उसी क्रम में प्रयागराज से चित्रकूट अलीगढ़ मुरादाबाद और बरेली के लिए भी जल्द ही फ्लाइट की सुविधा मिल जाएगी। इन शहरों के बीच छोटे विमान को चलाए जाने की रणनीति बनाई जा रही है।

प्रयागराज एयरपोर्ट के निदेशक बोले- बढ़ेंगी यात्री सुविधा : प्रयागराज एयरपोर्ट के निदेशक आर आर पांडेय ने बताया कि हम यात्री सुविधाओं के लिए बेहतर काम करने का प्रयास करते हैं। यात्रियों को अच्छी सेवा मिल रही है जिसके कारण एयरपोर्ट पर यात्रियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। एयरपोर्ट विस्तार के बाद फ्लाइटों की संख्या बढ़ेगी साथ ही यात्रियों की भी संख्या में इजाफा होगा।

Edited By: Brijesh Srivastava