प्रयागराज, जेएनएन। प्रतापगढ़ की मस्जिद में ठहरने वाले जिन तीन धर्म प्रचारकों की कोरोना वायरस रिपोर्ट पॉजीटिव आई है, उनके संपर्क में प्रयागराज शहर के मौलाना समेत कई लोग थे। पुलिस और खुफिया एजेंसी ने तलाशी शुरू की तो 12 लोगों की पहचान हुई। हंडिया के शख्स का पता नहीं चला है। डॉक्टरी जांच के बाद सभी को करेली के अंबर गेस्ट हाउस में क्वारंटाइन कर दिया गया है।

प्रतापगढ में तीन कोरोना वायरस के पॉजीटिव मरीज

दिल्ली के निजामुद्दीन से कुछ धर्म प्रचारक प्रतापगढ़ भी पहुंचे थे। वहां रानीगंज के नरसिंहगढ़ जामा मस्जिद में ठहरे और अलग-अलग स्थानों पर प्रचार किया था। तब्लीगी जमात का मामला सामने आने के बाद प्रतापगढ़ पुलिस ने मस्जिद से 15 धर्म प्रचारकों को पकड़ा था। शुक्रवार को तीन केस पॉजीटिव मिले।

प्रयागराज के लोग भी उनके संपर्क में आए थे

जमातियों से पूछताछ में पता चला कि प्रयागराज का एक मौलाना समेत कुछ लोग उनके संपर्क में आए थे। करेलाबाग के मौलाना समेत करेली व गौस नगर निवासी पांच लोगों की जानकारी जुटाई। इसके बाद जीटीबी नगर, रसूलपुर, करेली के सात और लोगों की तलाश कर ली गई। पूछताछ में बताया कि सभी छह, सात और आठ मार्च को प्रतापगढ़ गए थे। चार दिन पहले ही लौटे थे।

बोले प्रयागराज के एसपी सिटी

एसपी सिटी ने बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि शहर के 12 व हंडिया का युवक भी इनके सपंर्क में आए थे। सभी को क्वारंटाइन करने के बाद इनके परिवार वालों को भी सेल्फ क्वारंटाइन में रहने को कहा है।

थाईलैंड के नागरिक भी गेस्ट हाउस में शिफ्ट

गौस नगर के हेरा मस्जिद में ठहरे थाईलैंड के नौ नागरिकों को भी अंबर गेस्ट हाउस में शिफ्ट किया गया। करेली थानाध्यक्ष आशुतोष तिवारी ने बताया कि मेडिकल टीम क्वारंटाइन सभी लोगों की जांच कर रही है और बाहर पुलिस फोर्स तैनात की गई है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस