प्रयागराज, जेएनएन। इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय (इविवि) के चैथम लाइन स्थित शताब्दी हॉस्टल में रैगिंग के आरोपित 10 छात्रों को इविवि से निलंबित कर दिया गया है। साथ ही रैगिंग के आरोपित छात्रों को नोटिस देकर 25 अक्टूबर को स्पष्टीकरण देने को कहा गया है।

पीडि़त छात्रों ने रैगिंग की शिकायत एंटी रैगिंग पोर्टल पर भी की थी

इविवि के चीफ प्रॉक्टर प्रोफेसर राम सेवक दुबे ने बताया कि 18 अक्टूबर को उन्हें शताब्दी ब्वॉयज हॉस्टल में रैगिंग की जानकारी मिली। इस पर वह डीएसडब्ल्यू प्रोफेसर हर्ष कुमार व प्रॉक्टोरियल बोर्ड के सदस्यों के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने जूनियर व सीनियर छात्रों से अलग-अलग बात की। इस दौरान पाया गया कि सीनियर छात्र कई दिनों से विभाग एवं छात्रावास में समूह बनाकर बीएएलएलबी प्रथम वर्ष के छात्रों की रैगिंग कर रहे थे। पीडि़त छात्रों ने 14 अक्टूबर को मामले की शिकायत एंटी रैगिंग पोर्टल पर भी की थी।

जांच के दौरान आरोप सही पाया गया

चीफ प्रॉक्टर ने बताया कि जांच के दौरान आरोप में सत्यता पाई गई। इस तरह का कृत्य निंदनीय व गंभीर अपराध की श्रेणी में आता है। चीफ प्रॉक्टर प्रो. राम सेवक दुबे ने रैगिंग के आरोपित छात्रों को नोटिस भेजकर तत्काल प्रभाव से इविवि से निलंबित कर दिया। आरोपितों को स्पष्टीकरण देने के लिए 25 अक्टूबर को शाम चार बजे से पांच बजे तक चीफ प्रॉक्टर कार्यालय में पहुंचना होगा।

इन छात्रों को किया गया निलंबित

इविवि के चीफ प्रॉक्टर प्रो. राम सेवक दुबे ने बताया कि रैगिंग के आरोप में बीएएलएलबी तृतीय वर्ष के छात्र निर्भय सिंह, शिखर श्रीवास्तव, सुजीत कुमार अग्रहरि, अविनाश कुमार, बीएएलएलबी चतुर्थ वर्ष के वैभव आनंद, बीएएलएलबी द्वितीय वर्ष के गौतम आनंद, अपूर्वाराज, अभिषेक कुमार तिवारी, बीएएलएलबी पंचम वर्ष के गोपाल नाथ कर्ना और राहुल वर्मा को निलंबित किया गया है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप