अलीगढ़, जेएनएन।  कुछ दिनों शांत रहे बादल मंगलवार देरशाम फिर फट पड़े। रातभर पानी बरसा, बुधवार को भी बारिश का सिलसिला बरकरार रहा। हालांकि गुरुवार को मौसम में थोडी नरमी देखी गयी लेकिन आसमान में बादलों का डेरा रहा। बीच बीच मेंं हल्‍की धूप निकल रही लेकिन मौसम सुहाना बना हुआ है। बुधवार को दिनभर रिमझिम फुहार पड़ने के चलते गुरुवार को मौसम खुशनुमा बना हुआ है। 

उमसभरी गर्मी से लोगों को मिली राहत

पिछले दिनों लगातार हुई बारिश से प्रभावित इलाके मौसम साफ होने पर राहत में आ गए थे। लेकिन, उमस भरी गर्मी ने परेशान किए रखा। मंगलवार देरशाम बारिश के साथ चली तेज हवा ने पहाड़ी इलाके जैसा मौसम कर दिया। बुधवार को पूरे दिन ऐसा ही मौसम बना रहा। तेज हवा के साथ चेहरे से टकराती बूंदे सुकून दे रही थीं। अधिकतम तापमान 30 और न्यूनतम 26 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। घरों में एसी, कूलर बंद हो गए। इस बारिश ने सुकून तो दिया, लेकिन निचले इलाकों के लिए यह मुसीबत बन गई। गुरुवार को भी मौसम खुशनुमा बना रहा। आसमान में बादलों का डेरा है, हालांकि बीच बीच में हल्‍की धूप निकल रही है।

झमाझम बारिश से फसलें डूबी 

धान के लिए बारिश वरदान होती है। लेकिन, भारी बारिश नुकसान भी पहुंचाती है। रातभर हुई बारिश से अकराबाद क्षेत्र में धान की फसल डूब गई। इगलास में भी खेतों में पानी भर गया है। लेकिन कोई खास नुकसान नहीं हुआ। कृषि अधिकारी बताते हैं कि रुक रुककर होनी वाली बारिश फसलों के लिए अमृत समान होती है। एक साथ हुई भारी बारिश में फसल नष्ट होने की संभावना रहती है।

Edited By: Anil Kushwaha