अलीगढ़, जेएनएन। रामघाट रोड पर पीएसी के पास फिलहाल राहत मिलती नहीं दिखाई दे रही है। लोक निर्माण विभाग को प्रस्ताव पर मोहर लगने का इंतजार है। शासन की अनुमति के बाद टेंडर निकाला जाएगा, उसके बाद कहीं जाकर निर्माण कार्य शुरू होगा। इसलिए अभी राहगीरों को और देवसैनी के आसपास के लाेगाें को समस्या से जूझना ही पड़ेगा।

यह है समस्‍या

रामघाट रोड पर पीएसी के पास डेढ़ साल से जलभराव हो रहा है। जिससे सड़क पर बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। आम दिनों में तो लोग आराम से निकल जाया करते थे, मगर बारिश के दिनों में यह सड़क तालाब बन गई है। जलभराव के चलते गड्ढे दिखाई नहीं देते, जिससे आएदिन ई रिक्शा, बाइक व स्कूटी चालक पलट जाते हैं। यहां हालात बद से बदत्तर होते जा रहे हैं। पीडब्लयूडी पर सड़क निर्माण को लेकर काफी दबाव पड़ रहा है, मगर शासन से अनुमति नहीं मिल रही है। सड़क और नाले के निर्माण के लिए साढ़े तीन करोड़ रुपये का प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है। इसमें 160 मीटर सड़क, पीएसी की तरफ 400 मीटर नाले का निर्माण होना है। मगर, शासन की अनुमति न मिलने से निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पा रहा है। प्रस्ताव पर मोहर लगवाने के लिए पीडब्ल्यूडी के प्रांतीय खंड के अधिशासी अभियंता अनिल कुमार शर्मा कई बार लखनऊ जा चुके हैं। प्रमुख अभियंता पीडब्ल्यूडी के सामने उन्होंने समस्या भी रखी, इसके बावजूद अभी तक पैसा जारी होने का कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला। इससे राहगीरों को अभी आगे भी समस्या से जूझना पड़ेगा। वहीं, देवसैनी गांव के लोगों को भी निकलने में परेशानी होगी।