हाथरस, जेएनएन। तालाब चौराहे पर वर्ष 2018 से बन रहे रेलवे पुल का काम अब अगस्त तक पूरा होने की उम्मीद जताई जा रही है। मगर आठ अगस्त तक भी रेलवे पुल के दोनों साइड पूरी तरह से ओपन होने के कारण पुल फिलहाल असुरक्षित ही है। हालांकि दावा किया जा रहा है कि जल्द ही दोनों साइडों को सेफ करने के इंतजाम किए जाएंगे। फिलहाल नगर पालिका की ओर से पुल के ऊपर बिजली खंभे लगाने का काम जोर-शोर से चल रहा है।

15 अगस्‍त से पहले शुरू होने की संभावना कम

15 अगस्त के मौके पर रेलवे पुल की सौगात मिल पाएगी? इस सवाल पर सेतु निगम के अफसर चुप्पी साध रहे हैं। इतना भर कह रहे हैं कि तारीख नहीं बताएंगे मगर कोशिश होगी कि अगस्त तक रेलवे पुल पर वाहन फर्राटा भरना शुरू करा दें। पुल पर वाहनों का आवागमन शुरू कराने के बाद ही हतीसा पुल की तरह से यहां सीढि़यां तैयार की जाएंगी। रेलवे लाइन के ऊपर बने पुल को दोनों ओर जोड़ दिया गया है। अब ढलान वाले हिस्सों में दोनों ओर सीमेंटेड रेलिग बनाने का काम शुरू हो गया है। अब सड़क बनाने का काम बाकी है। जिन सेतु निगम के अफसरों ने पुल का निरीक्षण करने आए डीएम रमेश रंजन को 15 अगस्त तक पुल का काम पूरा करने का वादा किया था वह अब चुप्पी साध रहे हैं। मजदूरों की संख्या कम देख अनुमान लगाया जा सकता है कि सेतु निगम काम को जल्द पूरा करने को लेकर कितना फिक्रमंद है। रविवार को दिनभर काम चला। पुराने लोहे को क्रेन के जरिए दूसरी जगह ले जाया जा रहा था।

रेलवे क्रासिंग पर ओवरब्रिज की सौगात 2018 में मिली थी

शहर के अति व्यस्त तालाब चौराहा रेलवे क्रासिंग पर 700 मीटर लंबे ओवरब्रिज का तोहफा वर्ष 2018 में भाजपा शासन में मिला था। इस पर 23.57 करोड़ रुपये से अधिक खर्च हो रहा है। कोरोना काल के कारण यहां काम बंद था, लेकिन अब काम चल रहा है। सबसे बड़ा काम पुल के बीचों बीच गार्डर रखने का था। यह काम रेलवे ने पूरा करा दिया है। कुछ दिन बाद ही सड़क पर डामरीकरण भी सेतु निगम की ओर से शुरू कर दिया जाएगा। रेलवे पुल में हो रही देरी से जाम की समस्या से शहर के लोगों को छुटकारा नहीं मिल पा रहा है।

Edited By: Anil Kushwaha