अलीगढ़, जेएनएन ।  टाक्टे तूफान के बाद अब यास चक्रवात ने बंगाल में दस्‍तक दे दी है। माना जा रहा है इसका असर उत्‍तर प्रदेश में देखने को मिलेेेेगा। ऐसे में उम्‍मीद की जा सकती है कि यहां एक बार फिर से मौसम करवट ले सकता है। हालात को देखते हुये सतर्क रहने की जरूरत है। फिलहाल मौसम में गर्माहट है, सुबह और शाम लोगों को राहत मिल रही है लेकिन दिन चढने के साथ सूर्य की तपिश लोगों को बेहाल कर रही है। तल्ख धूप के चलते उमस बढ़ गई है। इससे लोग परेशान हैं। छांव में भी रुकने पर पसीने छूट रहे हैं। इसके चलते लोग कूलर, पंखों का सहारा ले रहे हैं। वहीं, बारिश के बाद अब संक्रमाक बढ़ने का खतरा भी बढ़ गया है। अधिकतम तापमान भी पांच छह डिग्री सेल्सियस तक बढ़ गया है। 

फिर बदल सकता है मौसम

टाक्टे तूफान के बाद अब यास चक्रवात ने बंगाल में दस्‍तक दे दी है। ऐसे में उम्‍मीद की जा रही है एक बार फिर मौसम बदल सकता है। हालांकि इस बारिश से किसानों को कोई नुकसान नहीं होगा, लेकिन चक्रवात से पेड़ों को नुकसान हो सकता है। बिजली प्रभावित हो सकती है। कुछ दिन पहलेे आए टाक्‍टे तूफान से मई महीने में सावन जैसा मौसम होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली थी। पिछले 10 साल में रिकार्ड तोड़ बारिश दर्ज की गई, लेकिन रविवार से मौसम साफ होने लगा। रविवार को सुबह से ही तेज धूप के साथ दिन की शुरुआत हो गई थी। जैसे-जैसे दिन बढ़ा, धूप और तेज हो गई। दोपहर के समय तेज धूप से गर्मी का मौसम रहा। उमस के चलते लोग पसीनों से भीगे रहे। तापमान भी 25 से 30 तक पहुंच गया। अब सोमवार को लगातार दूसरे दिन भी सुबह से ही मौसम साफ रहा। यही हाल मंगलवार को भी रहा। धूप से दिन की शुरुआत हुई। हालांकि, उमस का कहर बरकरार है। तेज धूप के चलते लोगों को भारी उमस का सामना करना पड़ रहा है। लोग इससे बचने के लिए तरह-तरह के उपाय कर रहे हैं, लेकिन फिर भी ज्यादा फायदा नहीं मिल रहा है। 

संक्रमाक बीमारियों को बढ़ा खतरा

बारिश के चलते अब संक्रमाक बीमारियों के बढ़ने का खतरा बढ़ गया है। जलभराव के चलते मलेरिया, डेंगू की बीमारी फैल सकती है। देहात के साथ ही शहरी के भी कई क्षेत्रों में जलभराव है।

Edited By: Anil Kushwaha