अलीगढ़ (जेएनएन)। देहलीगेट इलाके की नंदनवन कॉलोनी में बुधवार को ईशो देवी (65) पत्नी मलखान की गला रेतकर हत्या कर दी गई। देर शाम शव घर में चारपाई पर रक्त रंजित अवस्था में मिला है। हत्यारों का अभी पता नहीं लग सका है। पुलिस ने शक के आधार पर मृतक वृद्धा के दोनों बेटों को हिरासत में लिया है।

लोधा के हैं रहने वाले

मूलरूप से लोधा क्षेत्र के गांव हरिदासपुर निवासी मलखान सिंह 10 साल पहले नंदनवन कॉलोनी में मकान बनाकर पत्नी व तीनों बच्चों के साथ रहने लगे। वे नगर निगम में माली के पद पर कार्यरत थे। चार साल पहले मलखान की मौत हो गई। इसके बाद ईशो देवी छोटे बेटे मुकेश के साथ यहां रहती थीं। बड़ा बेटा सोनू गांव हरिदासपुर में रहता है। दोनों ही मजदूरी करते हैं। इनकी शादी नहीं हुई है। मकान की दूसरी मंजिल पर बेटी प्रीती व दामाद श्रीकृष्ण भी रहते हैं।

 

परिजन गए थे मजदूरी करने

हर रोज की तरह बुधवार की सुबह परिवार के सदस्य मजदूरी करने चले गए। घर में अकेली ईशो देवी थीं। शाम साढ़े सात बजे बेटी व दामाद घर पहुंचे तो गेट का कुंडा लगा था, जिसे खोलकर अंदर गए तो दंग रह गए। चारपाई पर ईशो देवी खून से लथपथ पड़ी थीं। गला रेतकर हत्या की गई थी। सूचना पर नवागत एसएसपी आकाश कुलहरि, एसपी सिटी आशुतोष द्विवेदी, इंस्पेक्टर देहलीगेट रवींद्र कुमार सिंह, सीओ प्रथम विशाल पांडेय पहुंच गए और परिजनों से पूछताछ की।

मुख्य बातें

-नंदनवन कॉलोनी में हुई वारदात, हत्यारों का नहीं लगा सुराग

- घर में अकेली थी महिला, लोधा क्षेत्र की है मूल निवासी

-मजदूरी कर लौटे बेटी-दामाद को चारपाई पर पड़ा मिला शव

खून से सनी जैकेट खोलेगी हत्या का राज

पुलिस को घटनास्थल से एक जैकेट मिली है, जिस पर खून के धब्बे मिले हैं। जैकेट की मदद से पुलिस हत्यारे तक पहुंचने व हत्या के कारणों की जांच करने में जुट गई है। एसपी सिटी आशुतोष द्विवेदी ने बताया कि महिला की हत्या के कारणों की जांच की जा रही है। प्रारंभिक जांच में अभी कुछ भी पता नहीं चल पा रहा है। जल्द ही घटना का पर्दाफाश किया जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021