जासं, अलीगढ़ : क्वार्सी थाना क्षेत्र के रमेश विहार कालोनी में महिला डाक्टर आस्था अग्रवाल की हत्या गला दबाकर की गई थी। इसके बाद शव को फंदे पर लटकाया गया। हाथ, पैर, चेहरे व सीने पर चोट से बने नील के निशान मिले हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाकर हत्या करने की पुष्टि हुई है। बुधवार रात ही आस्था के पति अरुण समेत चार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। पुलिस आरोपितों की तलाश में जुटी है।

कोरोना कंट्रोल रूम में तैनात डा. आस्था अग्रवाल का शव बुधवार को उनके रमेश विहार स्थित घर के कमरे में फंदे पर लटका मिला था। कासिमपुर में राधिका आक्सीजन प्लांट चलाने वाले पति अरुण व दोनों बच्चे घर पर नहीं थे। बच्चों को पुलिस ने अरुण के बड़े भाई तरुण के घर से बुधवार रात सकुशल बरामद कर लिया। लेकिन, अरुण का फोन बंद है। उसकी लोकेशन ट्रेस की जा रही है। पुलिस के मुताबिक,पति-पत्नी के बीच मतभेद चल रहा था। अक्सर झगड़े होते थे। आस्था के साथ काम करने वाले मनीष ने मंगलवार रात साढ़े सात बजे फोन पर बात कीं तो कुछ असहज लगा था। वहीं आगरा के भगवान टाकीज के हैंडलूम एंपोरियम के पास रहने वाली आस्था की बहन आकांक्षा ने मुकदमा दर्ज कराया है। इसमें आस्था के पति अरुण अग्रवाल, जेठ तरुण अग्रवाल, देवर अनुज अग्रवाल व अरुण के दोस्त अर्वित अग्रवाल को नामजद किया है। इसमें आरोप है कि आस्था पर तरह-तरह के आरोप लगाकर अरुण की ओर से मारपीट की जाती थी। देवर अनुज ने भी कई बार हाथ छोड़ा। रिपोर्ट में आकांक्षा ने अरुण के चरित्र पर भी सवाल उठाए हैं। आरोप है कि अक्सर अरुण के कई महिलाओं से संबंध की बात सामने आती रही हैं। वर्तमान में भी अरुण के किसी महिला से संबंध थे। अरुण उस महिला से शादी करना चाहता था, जिसका विरोध करने पर आस्था के साथ मारपीट होती रहती थी।

......

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला है कि आस्था की हत्या गला दबाकर की गई थी। इस मामले में आरोपित पति अरुण समेत चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। दोनों बच्चों से भी बात की गई हैं। कई तथ्य मिले हैं। अरुण की गिरफ्तारी के बाद ही पूरी बात सामने आ सकेगी।

कुलदीप सिंह गुनावत, एसपी सिटी

Edited By: Jagran