अलीगढ़ [जेएनएन]  दैनिक जागरण की मुहिम 'भंडार भरा पर पेट खाली' में सामाजिक संगठनों का अभूतपूर्व सहयोग मिल रहा है। संगठन के पदाधिकारियों में अन्न की बर्बादी को लेकर वेदना है, तड़प है, उनका भी कहना है कि बस अब बहुत हो गया, अन्न की बर्बादी रुकनी ही चाहिए। एक तरफ शादी-पार्टियों में लोगों के सामने इतने आइटम हैं कि वो खाते-खाते थक जाते हैं, तो दूसरी तरफ कुछ लोगों को भूखे पेट सोना पड़ता है। भूख की आग जब जल उठती है तो कई बार तो उन्हें पानी पीकर शांत करनी पड़ती है। इसके शिकार मासूम बच्चे भी होते हैं, वो एक रोटी के टुकड़े के लिए दर-दर भटकते हैं। गुरुवार की कड़ी में वाष्र्णेय समाज के संगठनों के पदाधिकारियों से बात की गई, हर किसी ने कहा कि दैनिक जागरण ने बड़े ज्वलंत मुद्दे को उठाया है। हम पूरी तरह से साथ हैं। इसे जन-जन तक ले जाएंगे, निश्चित ही लोगों के अंदर बदलाव आएगा और अन्न की बर्बादी रुकेगी। आइए, मिलते हैं, जिन्होंने अन्न को बचाने का संकल्प लिया है।

शादी-पार्टी में भी मेन्यू कम कराने की कोशिश

अखिल भारतीय बारहसैनी युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु भैया ने कहा कि वह दैनिक जागरण की मुहिम के साथ हैं। वह महासभा के हर कार्यक्रम में लोगों से अपील करेंगे कि अन्न की बर्बादी को रोकें। सगे-संबंधियों की शादी-पार्टी में भी मेन्यू कम कराने की कोशिश करेंगे। विष्णु भैया ने कहा कि वह पर्चे आदि के माध्यम से लोगों को जागरूक करेंगे कि अन्न का दुरुपयोग न करें। यदि कहीं पर भी भोजन बचता है तो उसे गरीबों और जरूरतमंदों तक पहुंचाने की भी कोशिश करेंगे। 

 करेंगे लोगों को जागरूक 

वाष्र्णेय पहल के अध्यक्ष गौरव पीतल ने कहा कि वह कई वर्षों से इस पहल से जुड़े हुए हैं। दैनिक जागरण के साथ मिलकर उनकी हिम्मत और बढ़ जाएगी। वह अपने परिवार में काफी समय से अन्न की बर्बादी न हो इसके लिए मुहिम चला रहे हैं। नाते-रिश्तेदारी में जिस जगह जाते हैं, अन्न की बर्बादी होते देख वो टोक देते हैं। उनका प्रयास रहता है कि भोजन की बर्बादी न हो। गौरव पीतल ने कहा कि वह अपनी टीम के सदस्यों को भी इस बात के लिए प्रेरित करेंगे कि वह हर स्थान पर लोगों को जागरूक करेंगे। इस मुहिम को इतना फैलाएंगे कि हर व्यक्ति की जुबान पर सिर्फ अभियान की चर्चा होगी। 

एक दाना भी नहीं होने देते बर्बाद 

वाष्र्णेय युवा संगठन (रजि.) के प्रभारी अमित शेखर सर्राफ ने कहा कि उनकी संस्था इस मुहिम में पूरी शिद्दत से जुटेगी। हालांकि, काफी समय से हम अन्न की बर्बादी को रोकने के लिए लोगों को जागरूक कर रहे हैं। अपने कार्यक्रमों में थाली में लोगों को उतना ही भोजन परोसते हैं कि जितना वह कर सकें। कई बार लोग नाराज भी होते हैं, मगर जब हमारे उद्देश्य को समझ लेते हैं तो वह भी साथ में आ जाते हैं। हम अपने कार्यक्रमों में भी बचे भोजन को मंदिरों के पास बांटते हैं, उसे फेंकने नहीं देते हैं। अमित ने कहा कि उनकी संस्था दैनिक जागरण की इस मुहिम को शहर के कोने-कोने तक पहुंचाने का काम करेगी।  

Posted By: Mukesh Chaturvedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस