अलीगढ़ (जेएनएन)।   ग्रेटर नोएडा के सेक्टर 36 में ट्रांसपोर्ट कंपनी चलाने वाले अजीत भाटी की हत्या कर शव नहर में बहा दिया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हत्या होना पाया गया है। भाटी 15 मई को कार से घूमने निकले थे। वह रहस्यमय तरीके से लापता हो गए थे, उनका शव गुरुवार शाम खैर क्षेत्र की सोफा नहर में मिला।

मूल रूप से थाना दनकौर (गौतमबुद्ध नगर) के गांव कासना मढ़ैया निवासी अजीत भाटी (48) वर्तमान में ग्रेटर नोएडा में ट्रांसपोर्ट कंपनी चलाते थे। बकौल भाई फिरैजी भाटी, पिछले दिनों वह बीमार पड़ गए थे। अस्पताल से 14 मई को छुट्टी मिल गई। अगले दिन बुधवार को वह खेतों को देखकर आने की कहकर स्कॉर्पियो से चालक राघव त्रिपाठी के साथ घर से निकले थे।

चालक ने दी गायब होने की खबर

कार चालक ने देर शाम उनके अचानक गायब हो जाने की खबर परिजनों को दी। बताया कि वे दनकौर नहर के पास गए थे। जहां वे कुछ लोगों से बातचीत कर रहे थे। फिर टहलते हुए नहर की ओर चले गए। वह कार में ही बैठा रहा। काफी देर तक भाटी वापस नहीं आए ,काफी तलाशने पर कोई नहीं मिला। नहर में डूबने की आशंका में परिजनों ने दनकौर पुलिस की मदद से तलाश शुरू कर दी। स्थानीय गोताखोरों के अलावा पुलिस ने भी तलाश किया और पास-पड़ोस के थानों को खबर दे दी।

नहर में मिला शव 

खैर क्षेत्र के सोफा नहर में गुुरुवार शाम एक शव पड़ा मिला। पहचान न होने पर उसे पोस्टमार्टम हाउस भिजवा दिया। खबर पर शुक्रवार को परिजन आ गए और शिनाख्त कर ली। घर में मातम पसर गया। मृतक ने अपने पीछे पत्नी जागृति, बेटे नीशू, सोनू, सचिन व निक्की को रोता छोड़ा है।

हत्या कर फेंका गया शव

 बकौल इंस्पेक्टर खैर सुबोध कुमार उपाध्याय, पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों के अनुसार अजीत भाटी की हत्या की गई थी। सिर, माथे, कान के नीचे, नाक, दोनों हाथों की कोहनी समेत छह जगह किसी वजनी वस्तु के प्रहार से चोट आना पाया गया है। चूंकि प्रकरण दनकौर थाना क्षेत्र से जुड़ा हुआ है सो मामले की विवेचना वहीं से होगी। दनकौर इंस्पेक्टर समरेश सिंह ने बताया कि परिजनों की ओर से अभी कोई तहरीर नहीं मिली है। कार चालक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर जांच की जा रही है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Mukesh Chaturvedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप