अलीगढ़, जागरण संवाददाता: क्राइम कंट्रोल करने में अहम भूमिका निभा रहा सर्विलांस सिस्टम रात होते ही बेपटरी हो जाता है। आटोमेटिक नंबर प्लेट रिकाग्निशन सिस्टम काम नहीं करता। ऐसे में वाहन सवार अपराधी कैमरों के सामने से निकल जाएं तो कैमरे वाहन का नंबर ट्रैस नहीं कर सकते। स्मार्ट सिटी के सीइओ गौरांग राठी ने इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं में सुधार के निर्देश दिए। नगर निगम स्तर से प्रभारी अधिकारी तैनात किए गए हैं।

आटोमेटिक नंबर प्लेट रिकाग्निशन सिस्टम के सुचारू रूप से काम न करने की शिकायत पिछले कई दिनों से मिल रही थी। कंट्रोल सेंटर में तैनात पुलिस कर्मियों ने इस संबंध में उच्चाधिकारियों को अवगत कराया। सीइओ गौरांग राठी ने इंटीग्रेटेड कमांड एंड सेंटर के संचालन के लिए उत्तरदायी एफकान इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के प्रतिनिधियों से इस संबंध में जानकारी की और तत्काल इस समस्या का समाधान करने के निर्देश देते हुए प्रतिदिन तकनीकी रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा। कंपनी की तकनीकी टीम के सदस्य शिवम मिश्रा ने बताया कंपनी द्वारा आटोमेटिक नंबर प्लेट रिकाग्निशन सिस्टम की कुछ स्थानों पर रात के समय तकनीकी खराबी का परीक्षण कर लिया गया है। तीन दिन में इसे ठीक कर लिया जाएगा। निरीक्षण के दौरान नगर आयुक्त ने हाई सिक्योरिटी प्लेट नंबर का आइडेंटिफिकेशन नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए सर्विलांस और ट्रैफिक मैनेजमेंट को और प्रभावी बनाने के लिए चार गुना अधिक बैकअप क्षमता के इनवर्टर और बैटरी लगाने के निर्देश दिए, ताकि बिजली सप्लाई न होने पर भी पूरा रिकार्ड कंट्रोल सेंटर में आता रहे। यह व्यवस्था अगले एक से दो हफ्ते में पूर्ण रूप से चालू कर दी जाएगी। इसके अतिरिक्त नागरिक संबंधित सुविधाओं और ग्रेवाल रिड्रेसल के लिए बनाई जा रही एप का परीक्षण किया गया। यह ऐप एक-दो हफ्ते में नागरिकों को समर्पित कर दी जाएगी। सीइओ ने कंट्रोल सेंटर द्वारा जनरेट होने वाली रोजाना की रिपोर्ट, हर चौराहे की मानिटरिंग की रिपोर्ट, सभी चौराहों पर रात में गुजरने वाले वाहनों के आटोमेटिक नंबर प्लेट रिकाग्निशन सिस्टम, सर्विलांस सिस्टम की रिपोर्ट तलब करते हुए नगर निगम स्तर से कंट्रोल सेंटर की देखरेख और संचालन के लिए प्रभारी अधिकारी तैनात करने के निर्देश अपर नगर आयुक्त अरुण कुमार को दिए हैं।

Edited By: Aqib Khan