अलीगढ़, सुरजीत पुंढीर। जवां ब्लाक के रायपुर दहेली का स्मार्ट ग्राम सचिवालय जिले भर की पंचायतों के लिए नजीर बन गया है। इस सचिवालय में टाइल्स, पेंटिंग, पौधरोपण के साथ ही सीसीटीवी कैमरे, एलईडी स्क्रीन और कंप्यूटर भी लगाए गए हैं। बच्चों के खेलने व मंनोरजन के लिए बच्चा पार्क खोला गया है। जिम स्थापित हुई है। जल्द ही बैंकिंग, जन सुविधा केंद्र व पुस्तकालय भी यहीं होगा। यह सब संभव हुआ है ग्राम प्रधान नीरज सिंह व पंचायत सचिव प्रमोद माहेश्वरी की मेहनत से। अफसर इसे जिले का माडल पंचायत भवन होने का दावा कर रहे हैं।

यह है विशेषता

रायपुर दहेली का प्रधान रहते हुए मनोज कुमार सिंह ग्राम पंचायत में ग्राम सचिवालय के लिए आवेदन किया था। शासन से इसके निर्माण के लिए स्वीकृति देते हुए 17.46 लाख के बजट पर मुहर लगा दी, लेकिन ग्राम पंचायत में जमीन खाली न होने के चलते निर्माण नहीं हो सका। ग्राम सभा की जो जमीन खाली थी, उस पर लोगों ने अवैध कब्जा कर रखा था। बाद में तहसील प्रशासन ने पुलिस की मदद से कब्जा मुक्त करा दिया। इसके बाद यहां पर पंचायत भवन का निर्माण शुरू हुआ। इस साल पंचायत सीट महिला के लिए आरक्षित होेने के चलते मनोज कुमार सिंह ने इस बार अपनी पत्नी नीरज सिंह को चुनावी मैदान में उतारा। नीरज के प्रधान बनने के बाद कार्य में तेजी आई।

इस तरह बना है ग्राम सचिवालय

पांच बीघा क्षेत्रफल में इस ग्राम सचिवालय को बनाया गया है। इसमें आठ कमरे हैं। दो कमरे प्रधान व सचिव को बैठने के लिए आरक्षित किए गए हैं। मीटिंग हाल ग्राम सभा के लिए आरक्षित किया गया है। अन्य दो कमरों में पुस्तकालय संचालित किया जा रहा है। वहीं, एनआरएलएम समूह, जन सुविधा केंद्र व बैंकिंग की सुविधा भी यहीं पर मिलेगी।

पंचायत भवन पर यह होंगी सुविधाएं

-पंचायत के विभिन्न आय स्रोतों की धनराशि का विवरण

- बीपीएल परिवारों की सूची।

-विभिन्न योजनाओं के पात्र लाभार्थियों की सूची।

-योजनाओं में लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदन पत्र।

-बैंकिग व जन सुविधा केंद्र की सुविधा

-बच्चों को पढ़ने के लिए पुस्तकालय

-जिम व बच्चा पार्क की स्थापना

-हर्बल गार्डन व सीसीटीवी कैमरे

रायपुर दहेली में प्रधान व सचिव ने प्रयास करके आधुनिक ग्राम सचिवालय की स्थापना की है। जिले भर के दूसरे ग्राम प्रधानों के लिए को भी इसे देखकर सीख लेनी चाहिए। धनंजय जायसवाल, डीपीआरओ

मैंने इस ग्राम सचिवालय को जिले में माडल के रूप में तैयार करने के प्रयास किए हैं। सरकार से इसके निर्माण के लिए 17.46 लाख की धनराशि मिली है, लेकिन अब तक इस पर 28 लाख से अधिक खर्च हो चुके हैं। जिले में सबसे बेहतर पंचायत भवन होना गर्व की बात है।

नीरज सिंह, ग्राम प्रधान

पिछले डेढ़ साल से इस पंचायत भवन पर काम चल रहा था। सबसे अधिक गुणवत्ता पर ध्यान दिया गया। भवन अब बनकर तैयार हो गया हैं।

प्रमोद माहेश्वरी, ग्राम पंचायत सचिव