अलीगढ़ : आजाद समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने गुरुवार को छर्रा क्षेत्र के ग्राम सफीपुर में जनसभा की। वहां एक दुष्कर्म पीडि़ता के स्वजन से मुलाकात कर घटना की पूरी जानकारी ली। उन्हें न्याय दिलाने का भरोसा दिया। गांव के बाहर मैदान में पंचायत में प्रदेश सरकार पर निशाना साधा। पुलिस प्रशासन द्वारा उचित कार्रवाई न करने पर अलीगढ़ में विशाल पंचायत कर धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी। कहा, 15 सितंबर को एक गांव की अनुसूचित जाति की किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ, जिसकी थाने में एक युवक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। जबकि मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान में पीडि़ता ने चार लोगों के नाम बताए, परंतु पुलिस ने एक युवक को जेल भेज कर अपना काम समाप्त कर लिया है। उन्होंने कहा कि वे सब कुछ सहन कर सकते हैं परंतु समाज के बहन बेटियों का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकते। बहनों के सम्मान की खातिर भीम आर्मी कोई समझौता नहीं करेगी। वंचित समाज के साथ खड़े रहना और उनके अधिकार व सम्मान के लिए लड़ना ही उनकी राजनीति है। उन्होंने कहा कि पुलिस बाकी दोषियों को शीघ्र गिरफ्तार करे। वरना निकट समय में डीएम व एसएसपी कार्यालय के समक्ष मुजफ्फरनगर के किसानों की तरह भीम आर्मी द्वारा विशाल पंचायत की जाएगी, जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी शासन व प्रशासन की होगी। कहा, मुझे लगता है कि शासन, प्रशासन व अपराधियों ने हाथरस की घटना से सीख ले ली है कि सरकार में उनके आका बैठे हैं बचाने के लिए। चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज के लोग 2022 में इस जंगलराज को जड़ से समाप्त करने का काम करेंगे। उन्होंने मौके पर मौजूद छर्रा कोतवाल प्रमोद कुमार मलिक से भी अन्य आरोपितों की शीघ्र गिरफ्तारी को लेकर वार्ता की। इस मौके पर चंद्रशेखर आजाद के साथ राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष वीरेंद्र सिंह, राष्ट्रीय कोर कमेटी सदस्य पूर्व मंत्री चौ. महेंद्र सिंह, रवेंद्र भाटी, जिलाध्यक्ष चंद्र प्रकाश मौर्य, मंडल अध्यक्ष मुकेश कुमारी, महिला विग जिलाध्यक्ष पूनम सिंह, हरनाम सिंह, रिजवान अहमद, देवी सिंह रुहेला, प्रमोद कुमार, रवि गौतम, रोहित गौतम, योगेश गौतम आदि मौजूद रहे।

एसएसपी कार्यालय पर लटकाएंगे ताला : चंद्रशेखर आजाद

संसू, जलाली : कस्बा के मजरा नगरिया भूड़ में गुरुवार को पहुंचे भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर रावण मृतक रवींद्र के स्वजन से मिले। उन लोगों ने पुलिस प्रशासन से सहायता और मुआवजा न मिलने का आरोप लगाया। यह बात सुन चंद्रशेखर ने पुलिस प्रशासन पर जमकर निशाना साधा। एसएसपी कार्यालय पर ताला लगाने की बात कह डाली। साथ ही एससी एसटी एक्ट का मुआवजा ने मिलने पर मुख्यमंत्री पर विज्ञापन में रुपये लुटाने की कहकर अनुसूचितों का संवैधानिक हक मारने की बात कही। इस दौरान कई अलग-अलग मामलों के पीड़ित चंद्रशेखर रावण से मिले, जिन्हें उन्होंने शाम को एफआइआर की प्रति लेकर एसएसपी कार्यालय पहुंचने को कहा।

बता दें कि गांव नगरिया भूड़ में पिछले माह अनुसूचित जाति के युवक रवींद्र की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी। उन्होंने मृतका की पत्नी को भरोसा दिलाया कि परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित करने का प्रयास करूंगा। एससी एसटी का मुआवजा न मिलने की बात पर वार्ड 37 की जिला पंचायत सदस्या के पति वीरपाल दिवाकर ने बताया कि बीते कई माह में जिले में एक दर्जन से अधिक एससी एसटी के मुकदमे दर्ज हुऐ हैं लेकिन किसी का एक रुपया नहीं मिला। जलाली के कृपाल सिंह ने कहा कि जहरीली शराब कांड में मारे गये दलित समाज के लोगों के परिवारों को मुआवजा नहीं मिला। वह मुख्यमंत्री से चार बार मिल चुके हैं लेकिन जवाब मिलता है कि जिसके पास जमीन है उसे मुआवजा मिलेगा।

Edited By: Jagran