जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : कलक्ट्रेट सभागार में गुरुवार को डीएम चंद्रभूषण सिंह की अध्यक्षता में बाढ़ स्टीयरिग ग्रुप की बैठक आयोजित की गई। इसमें डीएम ने कहा कि मौसम विभाग के अनुसार इस बार सामान्य से ज्यादा बारिश होने की संभावना है। ऐसे में एहतियात के तौर पर गंगा-यमुना किनारे बसे गांव में हर प्रकार से तैयारी कर ली जाएं। बाढ़ चौकियों की स्थापना समय से कर ली जाए। जो काम मनरेगा से कराए जाने हैं, उनके प्रस्ताव तैयार कर लिए जाएं। डीएम ने खैर -अतरौली के एसडीएम व सिचांई विभाग के अफसरों को तटबंधों की मरम्मत एवं निगरानी का प्रबंध सुनिश्चित करने के साथ-साथ इनके कटाव निरोधक कार्यों का संयुक्त निरीक्षण करने के निर्देश दिए। उन्होंने बाढ़ सुरक्षा समितियों के गठन के साथ ही निर्देशित किया कि गंगा नदी की बाढ़ के प्रभावित क्षेत्रों से ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए स्थानों का चिह्नांकन कर लिया जाए। जिले के सभी रजबहों की साफ-सफाई व अतिक्रमण मुक्त किए जाएं। डीएम ने डीडीओ व जल निगम के एक्सईएन को निर्देश दिए कि बाढ़ काल में जो हैंडपंप निचले स्तर पर चले जाते हैं, उन्हे संक्रमण मुक्त करने के लिए उच्च स्तर पर लाने की कार्रवाई की जाए। बिजली विभाग के अभियंताओं को निर्देशित किया कि बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में अस्थायी कनेक्शन एवं ट्रांसफार्मरों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में संपर्क मार्गों को आवागमन के लिए उपयुक्त परिस्थिति में रखने के अलावा पुलिस को मोटर वोटों की व्यवस्था व बाढ़ चौकियों की स्थापना के निर्देश दिए। आपूर्ति विभाग को बाढ़ काल में प्रभावित ग्रामों में ग्रामीणों के जीवन के लिए खाद्य सामग्री की व्यवस्था व चिकित्सा विभाग को जल जनित बीमारियों की रोकथाम के लिए चिकित्सकों एवं शिविरों की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। कहा, दवा का भी पहले से ही इंतजाम कर लें। पशु चिकित्सा विभाग को पशुओं को संक्रमित होने से बचाने के लिए टीकाकरण अभियान संचालित करने को कहा। इस मौके पर सीडीओ अंकित खंडेलवाल, एडीएम सिटी राकेश मालपाणि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran