अलीगढ़ : हरदुआगंज के गांव कलाई में प्रधान के हिस्ट्रीशीटर बेटे रॉबी पर रविवार को हुए जानलेवा हमले को शुरू से ही संदिग्ध मान रही हरदुआगंज पुलिस प्राथमिक जांच में असलाह साफ करते समय गोली लगना बता रही है। पांच लोगों की नामजदगी को लेकर भी पुरानी रंजिश भी खंगाली जा रही है।

कलाई के प्रधान भूपेंद्र सिंह के पुत्र संजीव कुमार उर्फ रॉबी रविवार को गोली लगने से घायल हो गया था। प्रधान ने गांव के ही कुशबाबू, गोल्डी, ग्वालरा के रविप्रताप उर्फ बिनका, व प्रिंस नगर थाना बन्नादेवी अलीगढ़ निवासी अधिवक्ता के पुत्र गौरव व राजू के खिलाफ रंजिशन जानलेवा हमले की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। हरदुआगंज पुलिस घटना को शुरू से ही संदिग्ध बता रही थी। थाना प्रभारी डॉ. विनोद सिंह ने बताया कि रविवार को ही पुलिस ने गांव पहुंचकर चश्मदीदों के बयान दर्ज किए, जिसमें रॉबी के घेर में बैठकर असलाह साफ करते वक्त गोली लगने की बात सामने आई। इस बात की पुष्टि रॉबी की भाभी ने भी की है। पुलिस ने फॉरेंसिक जांच के साथ रॉबी के फिंगर प्रिंट भी लिए। आरोपियों की गिरफ्तारी के सवाल पर एसओ ने कहा कि नामजदों की लोकेशन ट्रेस होने के बाद सच्चाई सामने आ जाएगी, तब तक गिरफ्तारी नहीं होगी। घायल रॉबी के परिजनों ने पुलिस पर रसूखदार मुल्जिमों से मिलीभगत व राजनीतिक दबाव के चलते बचाने का आरोप लगाया। पिता भूपेंद्र सिंह ने कहा कि असलाह साफ करते वक्त क्या दो गोली चलेंगी? उन्होंने तथ्यों सहित आलाधिकारियों से शिकायत करने की बात कही है।

ऑपरेशन से निकाली कंधे में लगी गोली

अलीगढ़ के वरुण ट्रामा सेंटर में भर्ती रॉबी के कंधे का रविवार रात ऑपरेशन कर गोली निकाली गई। उसके दाहिने हाथ व कंधे में गोली लगी थी। सोमवार को हालत में सुधार बताया गया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप