अलीगढ़, जेएनएन। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। अब सभी दावेदारों की निगाहें नामांकन पत्रों की जांच पर टिकी हैं। जिला पंचायत सदस्य के दावेदारों में इस बार सबसे अधिक हलचल है। कुछ प्रत्याशियों काे तो जांच में साजिशन नामांकन पत्र खारिज होने की आंशका है। हालांकि, निर्वाचन विभाग से जुड़े अफसरों का दावा है कि सभी नमाांकन पत्रों की जांच पूरी तरह से निष्पक्ष तरीके से होगी। ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य व क्षेत्र पंचायत सदस्यों की जांच ब्लाक स्तर पर होगी। वहीं, जिला पंचायत सदस्यों की जांच जिला स्तर पर होगी। दो दिन तक नामांकन पत्रों की जांच चलेगी।

रविवार को था नामांकन का अंतिम दिन 

पंचायत चुनाव के लिए जिले में 29 अप्रैल को मतदान है। इसके लिए 31 मार्च से नामांकन पत्रों की बिक्री हो रही थी। शनिवार से इसकी शुरुआत हुई। रविवार को नामांकन पत्रों का अंतिम दिन था। ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य व ग्राम पंचायत सदस्य के नामांकन ब्लाक स्तर पर हुए। वहीं, जिला पंचायत सदस्य के नामांकन कलक्ट्रेट में हुए। दोनों नामांकन को लेकर जबरदस्त भीड़ रही। इसमें शारीरिक दूरी का भी जमकर उल्लंघन किया। अधिकतर बिना मास्क के ही नामांकन करने पहुुंच गए। दोनों दिनों में करीब 20 हजार नामांकन जमा हुए हैं। इनमें अधिकतर प्रत्याशियों ने जांच पड़ताल के बाद ही नामांकन पत्र दाखिल किए। प्रत्याशियों को इस बार जांच में नामांकन पत्रों के खारिज होने का भी डर सता रहा है। इसी के चलते अब प्रत्याशियों की नजर नामांकन पत्रों की जांच पर टिकी हैं। सोमवार व मंगलवार को जांच होनी हैं। प्रधान, बीडीसी व ग्राम पंचायत सदस्य के नामांकनों की जांच ब्लाक पर होंगी। वहीं, जिला पंचायत सदस्यों की जांच जिला स्तर पर होगी। ऐसे में प्रत्याशियों को डर है कि कहीं उनका नामांकन निरस्त न हो जाएग। सहायक निर्वाचन अधिकारी कौशल कुमार ने बताया कि रविवार को नामांकन का अंतिम दिन था। अब सोमवार से नामांकन पत्रों की जांच शुरू होगी। 21 को नाम वापसी व चुनाव चिन्ह आवंटन का मौका मिलेगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप