हाथरस, जागरण संवाददाता। तपती धूप में बसों की चेकिंग रोडवेज कर्मियों द्वारा नगला भुस व रुहेरी तिराहे पर की जा रही है। अलीगढ़ और आगरा की ओर से आने वाली बसों को शहर के अंदर भेजने का कार्य कर्मियों द्वारा किया जाता है। यहां कोई टीन शेड नहीं होने से यात्रियों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

रोडवेज की बसों को शहर के अंदर लाने के लिए भी रोडवेज को कवायद करनी पड़ रही है। जब से बाइपास बना है रोडवेज की बसें फर्राटा भरती हुई इसी से निकल जाती थीं। इससे यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। यात्रियों की शिकायतों पर रोडवेज की बसों को अंदर लाने के लिए अधिकारियों ने कर्मचारियों की ड्यूटी रुहेरी व नगला भुस तिराहे पर लगादी गई। इनका कार्य रोडवेज की सभी बसों को शहर के अंदर बस स्टैंड के लिए भेजना है।

दोनों तिराहों पर खड़े रहते हैं यात्री व रोडवेज कर्मी

अलीगढ़-आगरा की ओर से आनी वाली बसों को शहर के अंदर भेजने को सुबह छह से दोपहर दो बजे और दोपहर में दो से रात दस बजे तक दो-दो कर्मियों की ड्यूटी रहती है। भीषण गर्मी में भी कर्मियों को तपती धूप में खड़े होकर ड्यूटी करनी पड़ रही है। वहीं आगरा व अलीगढ़ की ओर जाने वाले यात्रियों को भी बसों के लिए टीनशेड की व्यवस्था नहीं होने धूप में खड़े होकर बसों का इंतजार करना पड़ता है।

यात्री बोल-

नगला भुस पर अलीगढ़ व आगरा की ओर जाने के लिए बस मिल जाती है। यहां बसों का इंतजार खुले आसमान तले खड़े होकर करना पड़ता है।

- सचिन शर्मा, यात्री

नगला भुस व रुहेरी यातायात के लिए प्रमुख स्थान हैं। यहां पर टीन शेड को कोई व्यवस्था नहीं है। इससे यात्रियों को दिक्कतें झेलनी पड़ती हैं।

- शेखर पंडित, निवासी

शहर के बाहर से जा रहे बाइपास के तिराहे पर कुछ बेंच तो बनवा दी गईं। टीन शेड नहीं बना है। इससे धूप हो बारिश यात्रियों को खुले में खड़ा रहना पड़ता है।

- प्रवीन उपाध्याय, यात्री

Edited By: Sandeep Kumar Saxena