अलीगढ़, जेएनएन । प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से माता व शिशुओं के जीवन में खुशहाली आ गई है। खासतौर से ग्रामीण क्षेत्र में इसका काफी महिलाओं ने लाभ उठाया है। तीन किस्तों में 500 रुपये प्रदान करने की इस योजना का अब तक एक लाख से अधिक माताओं ने लाभ उठाया है। यह धनराशि उनके पोषण के लिए सरकार द्वारा दी जा रही है। इसमें लाभार्थी घर बैठे स्वयं पंजीकरण करा सकते हैं। इससे बचपन खिलखिला रहा है तो माताएं भी मुस्कुरा रही हैं।

गर्भवती के स्‍वास्‍थ्‍य की देखभाल में मदद को एक सराहनीय पहल

सीएमओं डा. आनंद उपाध्याय ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना गर्भवती के स्वास्थ्य की देखभाल में मदद के लिए एक सराहनीय पहल है । जिले में अब तक प्रथम बार गर्भधारण करने वाली करीब एक लाख महिलाओं को योजना का लाभ मिल चुका है । प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का लाभ लेने के लिए प्रथम बार गर्भ धारण करने वाली पात्र महिला क्षेत्रीय आशा एवं एएनएम से संपर्क कर योजना का लाभ उठा सकतीं हैं । योजना का मुख्य उद्देश्य गर्भवती के स्वास्थ्य की देखभाल के साथ ही बच्चे के भी बेहतर स्वास्थ्य के साथ ही सुरक्षित प्रसव सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि योजना का लाभ लेने के लिए महिला लाभार्थी को अपना बैंक खाते का विवरण ,अपना एवं पति का आधार कार्ड, टीकाकरण कार्ड जिसमें महिला की जांचों का विवरण दर्ज हो, बच्चे का जन्म प्रमाणपत्र, बच्चे का टीकाकरण कार्ड अपने क्षेत्र की आशाओं को उपलब्ध कराना होगा।

योजना की विशेषताएं

सीएमओं के अनुसार गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं की देखरेख व बच्चे के विकास के लिए सरकार प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) चलाई जा रही है । इस योजना की राशि का लाभ गर्भवती को केवल अपने पहले बच्चे के लिए मिलता है। कुल 5000 रुपये की राशि तीन किस्तों में लाभार्थियों को मिलता है। इसके लिए आंगनबाड़ी केंद्र या सरकारी स्वास्थ्य केंद्र में रजिस्ट्रेशन कराना होगा । महिलाएं गर्भधारण के बाद आशा एवं एएनएम से संपर्क कर सकती हैं।

घर बैठे लाभ

योजना के अंतर्गत घर बैठे ही लाभ उठाया जा सकता है। इसके लिए सरकारी वेबसाइट (www.pmmvy-case.nic.in) पर आनलाइन पंजीकरण करें । लाभार्थी को अपने आधार कार्ड को बैंक के खाते से जोड़ना चाहिए।

Edited By: Anil Kushwaha