अलीगढ़, जागरण संवाददाता। महीने में दो बार वितरण होने वाले राशन में कोटेदार खेल कर रहे हैं। सबसे बड़ा खेल अंत्योदय कार्ड धारकों के साथ हो रहा है। पहले चरण के राशन में सरकार पात्र गृहस्थी व अंत्योदय कार्ड धारकों को समान रूप से पांच किलो प्रति यूनिट के हिसाब से राशन देती है। इसमें अगर किसी अंत्योदय कार्ड धारक के यहां दो लोग हैं तो उसे 10 किलाे राशन मिलता है, लेकिन महीने के दूसरे चरण के राशन में सरकार पात्र गृहस्थी कार्ड धारक को पांच किलो प्रति यूनिट तो अंत्योदय कार्ड धारक को एक मुश्त 35 किलो राशन देती है, लेकिन कई बार डीलर पहले चरण की तरह ही अंत्योदय कार्ड धारक को प्रति यूनिट राशन देकर टरका देते है। अगर किसी अंत्योदय कार्ड धारक के परिवार में दो लोग हैं तो उसे 10 किलो राशन देकर ही टरका दिया जाता है, जबकि नियमानुसार उसे एक मुश्त 35 किलो राशन मिलना चाहिए। विभाग में इस तरह की कई शिकायत आई हैं, हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन सजगता के लिए फिर भी डीएसओ की ओर से जिले के सभी डीलरों को चेतावनी जारी कर दी गई है। इसमें नियमानुसार ही वितरण करने के निर्देश दिए गए हैं।

यह है नियम

डीएसओ राजेश कुमार सोनी ने बताया कि अक्टूबर के पहले चरण में मुफ्त में राशन बांटा गया था। इसमें प्रति यूनिट पांच किलो गेहूं दिए गए थे। इस बार चावल का वितरण नहीं हुआ था। अब बुधवार से दूसरे चरण का वितरण शुरू हो गया है। इसमें गेहूं चावल दोनों का वितरण हो रहा है। पात्र गृहस्थी कार्ड धारकों को प्रति यूनिट पांच किलो राशन (तीन किलो गेहूं व दो किलो चावल) दिया जा रहा है। वहीं, अंत्योदय कार्ड धारकों को एक मुश्त 35 किलो(20 किलो गेहूं व 15 किलो चावल) राशन का वितरण हो रहा है। गेहूं की कीमत दो रुपये प्रति किलो व चावल की कीमत तीन रुपये प्रति किलो रखी गई है।

अब सीधे कार्रवाई होगी

उन्होंने बताया कि जिले में ऐसी कुछ शिकायतें मिली हैं कि महीने के दूसरे चरण के राशन में भी अंत्योदय कार्ड धारकों को यूनिट के हिसाब से राशन दिया जा रहा है,लेकिन नियमानुसार यह गलत है। दूसरी बार के राशन में एक मुश्त 35 किलो राशन का ही वितरण होगा। उन्होंने सभी डीलरों को हिदायत देते हुए कहा कि अगर कहीं से इस तरह की शिकायत आती हैं तो फिर सीधे कार्रवाई होगी।