जासं, अलीगढ़ : देहलीगेट क्षेत्र के झलकारी बाई नगर निवासी कासिम खान ने अपने परिवार के साथ रविवार को घर वापसी (हिदू धर्म ) कर ली। कासिम खान ने अपना नाम बदलकर कर्मवीर कर लिया। बच्चों के भी नाम परिवर्तित कर लिए। सासनीगेट स्थित आर्य समाज मंदिर में बाकायदा शुद्धिकरण कराया गया। पांच विद्वानों के साथ मंत्रोच्चार किया गया। कासिम ने कहा कि उन्होंने स्वेच्छा से घर वापसी की है।

झलकारी बाई नगर निवासी कासिम खान ने बताया कि उन्होंने आठ साल पहले जंगलगढ़ी निवासी अनीता से विवाह किया था। दोनों के दो बच्चे अयाज और कशिश हैं। रविवार को पूरे परिवार के साथ कासिम सासनीगेट स्थित आर्य समाज मंदिर पहुंचे। यहां हिदुत्ववादी नेता नीरज भारद्वाज के सानिध्य में मंत्रोच्चार के साथ शुद्धिकरण कराया गया। इसके बाद कासिम ने अपना नाम बदलकर कर्मवीर सिंह रख लिया। पत्नी का नाम पहले से अनीता है। बेटे अयाज का नाम आशुतोष रखा है। बेटी कशिश का नाम नहीं बदला है। कासिम ने बताया कि उनके पूर्वज हिदू थे। बाद में उन्होंने इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया था। काफी समय से वह घर वापसी की सोच रहे थे। उन्होंने जिला प्रशासन से भी इसके लिए संपर्क किया था। आर्य समाज मंदिर में शपथपत्र देने के बाद उन्होंने विधिवत घर वापसी की है। हालांकि, वापसी के बाद से कासिम के पास तमाम फोन आने लगे हैं। बताया जा रहा है कि लोग घर वापसी को लेकर उनसे पूछताछ कर रहे हैं। धमकियां भी मिली हैं। नीरज भारद्वाज ने कहा कि यह खुशी की बात है कि कासिम ने घर वापसी की है। वह कह रहे थे कि बहुत दिनों से घुटन महसूस कर रहे थे।

........

कासिम खान ने स्वेच्छा से घर वापसी की है। इनकी शादी अनीता के साथ हुई थी। आर्य समाज मंदिर में उनकी सारी प्रक्रिया हुई है। मामला संज्ञान में है।

आशीष कुमार, इंस्पेक्टर थाना देहलीगेट

Edited By: Jagran