अलीगढ़, जागरण संवाददाता। खैर कोतवाली क्षेञ के गांव अमरगढी निवासी महिला शीतल पत्नी नवेद ने दहेज उत्पीड़न की रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस ने महिला के पति समेत चार लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

पहले पति की हो चुकी है मौत

दर्ज रिपोर्ट के अनुसार शीतल की शादी करीब आठ वर्ष पूर्व मनोज पुत्र कालू निवासी जैन बिहार बाइपास गली नं.10 जिला गाजियाबाद में हुई थी। जिससे मेरे एक बेटी दिव्या जिसकी उम्र 7 वर्ष है। तथा चार वर्ष का एक बेटा है। तीन वर्ष पूर्व मेरे पति मनोज का देहान्त हो गया। मैं अपने बच्चों को लेकर अपने गांव अमरगढ़ी आ गयी। विधवा होने के कारण हमारे गांव का शाकिर पुत्र गुलाम रसूल बहुत ही शातिर किस्म का व्यक्ति है, ने मजबूरी का फायदा उठाकर अपने भांजे नवेद पुत्र मोहम्मद अकर निवासी नौसाना ताहिरा थाना चांदपुर जिला बुलन्दशहर हाल निवासी गांव मामूड़ा जनपद गौतमबुद्ध नगर सेे 19 सितम्बर 2020 को थाना सूरजपुर गौतमबुद्ध नगर में मेरी कोर्ट मेरिज करा दी।  शादी के कुछ समय बाद तक तो सब ठीक रहा परन्तु बाद में पति नवेद, ससुर अकर, ननद सीभा, हमारे गांव के शाकिर से मिलकर दो लाख रूपये दहेज के रूप में मांगने लगे। जिसे पूरा करने में मेरी  मां असमर्थ रही तो दहेज न मिलने के कारण उक्त चारों ने मिलकर शोषण व प्रताड़ित करने लगे और 12 सितम्बर 2021 को गाड़ी में जबरन बिठाकर गांव के पास बालमपुर के पास उतार कर नहर किनारे मारपीट कर धमकी देते हुए कहा कि तू बिना दहेज लिए आयी तो तुझे जान से मार दूंगा। वैसे भी तू हिन्दू समाज से है और हम लोग मुस्लिम समाज से हैं। हमें तुझे मारने में कोई आपत्ति नही होगी। धर्म परिर्वतन के लिए दबाव भी डालता है, मैं अपना धर्म परिर्वतन नही कर सकती। थाना पुलिस ने पीडि़त की तहरीर पर चार गैर समुदाय के लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न, मारपीट, धर्म परिर्वतन की संगीन धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। आरोपितों की तलाश में पुलिस जुटी है।

दहेज के लिए पत्‍नी को जलाकर मारने का आरोपित गिरफ्तार

इगलास । कोतवाली क्षेत्र के गांव गिदौरा में दहेज के लिए पत्नी को जलाकर फरार हुए पति को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपित को जेल भेजा गया है।कोतवाल रवींद्र कुमार दुबे ने बताया कि रामकुमार पुत्र बाबूलाल निवासी प्रेमनगर थाना मांटा (मथुरा) को गिरफ्तार सूरजा करौली चाैराहे से गिरफ्तार किया गया था। युवक के खिलाफ कार्रवाई करते हुए जेल भेजा गया है। विदित रहे कि आरोपित के खिलाफ गांव गिदौरा निवासी हरिओम पुत्र चम्मन लाल ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उसका आरोप था कि रामकुमार उसकी बहन भारती का पति है। वह दहेज में एक बाइक व मथुरा में दुकान करने के लिए दो लाख रुपये मांगता था। दो माह पहले बहन को गांव छोड़ गया था। 14 सितंबर की शाम को रामकुमार घर आया और बहन से चाय बनाने के लिए कहा। जब वह चाय बनाने गई तो रसोई में गैस का पाइप निकाल कर आग लगा दी और बाहर से दरबाजा बंद कर फरार हाे गया। शोर सुनकर पड़ौसियों ने उसकी बहन को बचाया।

Edited By: Anil Kushwaha