हाथरस [जेएनएन ]: लॉकडाउन में गरीब व असहाय लोगों को भोजन के पैकेट तैयार करने के दौरान गैस सिलेंडर में आग लग गई। दमकल ने आग बुझाई, तब खाने का पैकेट तैयार हो पाया। सादाबाद में मई निवासी युवक ने कोतवाली में तहरीर देकर बताया है कि उसकी शादी चार वर्ष पूर्व हुई थी। उसकी पत्नी फोन से किसी अन्य युवक से बात करती थी, पूछने पर टालमटोल करती थी। एक दिन उसने पत्नी को अपने चाचा के लड़के  साथ आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ लिया। इसलिए पत्नी चल गई।

ऐसे हुई घटना

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सुबह 11 बजे के बाद लॉकडाउन शुरू हो जाता है। ऐसी स्थिति में सैकड़ों लोग ऐसे होते हैं, जिनके पास खाने की दिक्कत होती है। ऐसे लोगों को भोजन के पैकेट मुहैया कराए जाते हैं। सुबह से ही शहर के कई स्थानों पर भोजन के पैकेज तैयार करने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता सोमवार को बागला मार्ग पर एक रेस्टोरेंट के बाहर भोजन तैयार करा रहे थे। तभी अचानक गैस सिलेंडर में आग लग गई। इससे वहां अफरा-तफरी मच गई। लोग इधर उधर भागने लगे। सूचना पर दमकल पहुंची। बड़ी मुश्किलों से आग पर काबू पाया। आग बुझ जाने के बाद फिर से खाने के पैकेट तैयार करने में कार्यकर्ता जुट गए।

डेढ़ साल के बच्चे को छोड़कर जेवरात लेकर चली गई पत्नी

सादाबाद में मई निवासी युवक ने कोतवाली में तहरीर देकर बताया है कि उसकी शादी चार वर्ष पूर्व हुई थी। उसकी पत्नी फोन से किसी अन्य युवक से बात करती थी, पूछने पर टालमटोल करती थी। एक दिन उसने पत्नी को अपने चाचा के लड़के  साथ आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ लिया, तब पता चला कि वह इसी से बात करती थी। इसको लेकर विवाद हुआ तो उसकी पत्नी उसे झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देकर, डेढ़ वर्ष के बच्चे को छोड़कर मायके चली गई। अपने साथ सारे गहने भी ले गई।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस