हाथरस, जागरण संवाददाता। बुखार और डेंगू ने पूरे जिले में पैर पसार लिए हैं। लोगों की मौतों का सिलसिला खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। मंगलवार सुबह सहपऊ के गांव नगला मेवा के 14 वर्षीय किशोर की आगरा में बुखार के चलते मौत हो गई। किशोर की मौत हो जाने से परिवार में हाहाकार मचा हुआ है। जिले में एक दर्जन लोग जानलेवा बुखार की चपेट में है। जिनका उपचार अस्पतालों में चल रहा है।

पिछले कई दिनों से पीड़ित था किशोर

क्षेत्र के गांव नगला मेवा में बुखार से एक चौदह वर्षीय किशोर रोहित पुत्र जयपाल सिंह पिछले कई दिनों से बुखार से पीड़ित था। स्वजन के द्वारा आगरा के एक निजी अस्पताल में उपचार कराया जा रहा था। मंगलवार सुबह किशोर की उपचार के दौरान ही मौत हो गई। किशोर की मौत हो जाने से परिवार में हाहाकार मच गया। स्वजन शव को लेकर गांव आ गए। जहां उसका दाह संस्कार करा दिया गया। किशोर की मौत से गांव में शोक की लहर दौड़ गयी। स्वजन को रो रोकर बुरा हाल है। मृतक किशोर के पिता जयपाल सिंह का कहना है कि तीन दिन पूर्व पुत्र को तेज बुखार आया था। पास के ही प्राइवेट हॉस्पिटल ले गये। तबीयत बिगड़ने पर आगरा उपचार के लिए ले गए। जहां उसकी मौत हो गई। मृतक किशोर के परिवार में बड़ी बहिन सरिता (26) भी बीमार है उसका भी प्राइवेट हास्पिटल में इलाज चल रहा है। गांव में आधा दर्जन से अधिक किशोर एवं बच्चे बीमार चल रहे हैं। बुखार से पीड़ित मरीजों में सचिन कुमार, सपना, अंकित, राजकुमारी, सुनीता हैं। सीएचसी प्रभारी डा. प्रकाश मोहन का कहना है कि वह गांव में मेडिकल टीम भेजा गया है। गांव में बीमार लोगों को दवा का वितरण किया जाएगा एवं जांच भी की जाएगी। किशोर की मौत उसके मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद ही पता चलेगा कि किशोर की मौत किस बीमारी से हुई है।

डेंगू बताकर चांदी काट रहे झोलाछाप

बुखार व डेंगू का प्रकोप लगातार बढ़ने पर अब झोलाछाप मनमानी कर रहे है। गांवों में लोगों को डेंगू का खौफ बताकर मनमानी फीस उनसे वसूली जा रही है। बीमार लोगों की लगातार संख्या बढ़ती ही जा रही है। झोलाछाप डाक्टरों के पास बुखार से पीडित लोगों की भीड़ लग रही है। वह चांदी काटने में लगे हुए हैं। जिस बीमारी व्यक्ति की प्लेंट्स कम हो रही है। वह उनको डेंगू बताकर उल्टे सीधे पैसे वसूल करते हैं।

Edited By: Anil Kushwaha