हाथरस, जागरण संवाददाता: अमृत सरोवरों को स्मार्ट बनाने के लिए लखनऊ से टिप्स लेकर लौटे प्रभारी डीपीआरओ एके मिश्र ने बताया कि 15 अगस्त से पहले 25 अमृत सरोवर पूरे करने होंगे ताकि वहां ध्वजारोहण किया जा सके। इसके लिए विशेष रूप से प्लेटफार्म बनाए जाएंगे। बाकी अमृत सरोवर 15 अगस्त 2023 तक पूरा करने का लक्ष्य दिया गया है।

जल संरक्षण और आमजन की सहूलियत के लिए जिले में 76 तालाब अमृत सरोवर के रूप में विकसित किए जाएंगे। एक सरोवर के विकास पर 40 लाख रुपये खर्च आएगा। अमृत सरोवर पर मार्निंग वाक की व्यवस्था, पीने के लिए पानी की व्यवस्था, रोशनी व बैठने के लिए बेंच की व्यवस्था होगी।

अमृत सरोवर में हाथरस शहर का प्रमुख तालाब भी शामिल किया गया है। ग्राम्य विकास अभिकरण के परियोजना निदेशक और प्रभारी डीपीआरओ अश्वनी कुमार मिश्र ने बताया कि अमृत सरोवर को लेकर लखनऊ में वर्कशाप थी जिसमें कई बिंदुओं पर चर्चा हुई।

अमृत सरोवर योजना के तहत जिले के 76 तालाबों को चिह्नित कर सुंदरीकरण किया जाएगा। आम, जामुन, पीपल, नीम, बरगद के पौधे और सोलर लाइट लगाकर विकसित किए जाएंगे। अमृत सरोवरों पर राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस व गांधी जयंती पर शहीदों की स्मृति में राष्ट्र ध्वज फहराकर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

प्रभारी डीपीआरओ के मुताबिक जनपद में कुल 76 अमृत सरोवर चिन्हित किए गये हैं जिसमें सात जिलापंचायत से, 22 क्षेत्र पंचायत से 47 ग्राम पंचायत से बनाये जाएंगे। ग्राम पंचायत वाले तालाबों का शुभारंभ हो चुका है। जिला पंचायत के सभी तालाब पूर्णतया 15 वें वित्त से बनेंगे। क्षेत्र पंचायत में नौ तालाब 15 वित्त से बनेंगे। शेष मनरेगा और राज्य वित्त के कन्वर्जेंस से बनेंगे। ग्राम पंचायत में सभी तालाब मनरेगा और राज्य वित्त के कन्वर्जेंस से बनेंगे।

आम, जामुन, पीपल, नीम, बरगद के पौधे और सोलर लाइट लगाकर विकसित किए जाएंगे। अमृत सरोवरों पर राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस व गांधी जयंती पर शहीदों की स्मृति में राष्ट्र ध्वज फहराकर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

Edited By: Aqib Khan