जेएनएन [अलीगढ़] : नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध की आड़ में रविवार को कई जगह उपद्रव किया गया। महिलाओं के साथ निकलीं टोलियों ने ऊपरकोट व आसपास के इलाकों में नारेबाजी कर कई बार माहौल बिगाडऩे की कोशिश की। तुर्कमान गेट, बनियापाड़ा में उपद्रवी राहगीरों से भिड़ गए। तीन मंदिरों पर पथराव किया। चरखवालान में हजारों की भीड़ ने सड़क जाम कर दी। सुबह 11 से शुरू हुआ क्रम शाम चार बजे तक चला। पुलिस हर बार टकराव को संभालती रही, लेकिन कोतवाली के बाहर पथराव कर उपद्रवियों ने ङ्क्षहसा भड़का दिया। इससे हिंंददुओं में रोष व्‍याप्‍त हो गया।

नहीं खत्‍म हुआ धरना

शाहजमाल ईदगाह के बाहर चल रहे धरने में शनिवार रात टेंट लगने के बावजूद ऊपरकोट में रविवार को धरना खत्म नहीं किया गया। कोतवाली के बाहर एक धरना चल रहा था तो दूसरा प्रदर्शन मुख्य तिराहे पर था। दोनों तरफ से 50-100 लोगों के झुंड इधर-उधर घूम रहे थे। इनमें बच्चे व महिलाएं भी थीं। पुरुष आगे पीछे चल रहे थे। इन्हीं लोगों ने अलग-अलग इलाकों में घूमकर नारेबाजी शुरू कर दी। हाथों में सीएए विरोधी पोस्टर थे। सरकार के खिलाफ नारेबाजी की जा रही थी। जहां से टोली गुजर रही थीं, तनाव बढ़ता जा रहा था। अब्दुल करीम चौराहा, हाथी पुल व आसपास के बाजार बंद हो गए। शाहजमाल में लगातार भीड़ बढ़ रही थी। दोनों प्रदर्शनों में करीब 10 हजार लोगों की भीड़ थी। दोपहर करीब एक बजे कुछ महिलाएं शाहजमाल में बैरिकेडिंग से बाहर आकर धरने पर बैठ गईं। पुलिस के रोकने पर नहीं हटीं और पुतला फूंक दिया। पुलिस ने जैसे तैसे स्थिति को संभाला। इसके बाद 300-400 लोगों की भीड़ चरखवालान चौराहे पर आ गई। यहां फोर्स कम था। प्रदर्शनकारी ज्यादा थे। लगातार लोगों की टोलियां यहां आकर शामिल होती गईं और रोड जाम कर हंगामा काटा। डीएम चंद्रभूषण सिंह व एसएसपी मुनिराज भी पहुंच गए, लेकिन प्रदर्शनकारी नहीं हटे। 

खटीकान चौराहे पर हंगामा 

एक टोली खटीकान चौराहे से प्रदर्शन करते हुए गुजरी तो मिश्रित आबादी होने के चलते ङ्क्षहदू समाज के लोगों से नोकझोंक हो गई। टकराव की स्थिति बन गई, जिसे पुलिस ने संभाल लिया। एक टोली तुर्कमान गेट की तरफ पहुंच गई। यहां स्थित पथवारी देवी मंदिर पर उपद्रवियों ने पथराव कर दिया। वे यहीं नहीं रुके, आगे दो और मंदिरों में ईंट-पत्थर फेंक दिए। स्थानीय लोग विरोध में आ गए और महिलाएं धरने पर बैठ गईं। ङ्क्षहदू समुदाय के लोग उपद्रवियों पर कार्रवाई की मांग करने लगे। भाजपा जयगंज मंडल के अध्यक्ष देवेंद्र सैनी, महावीरगंज मंडल अध्यक्ष संजय शर्मा समेत तमाम नेता आ गए। पुलिस ने इन्हें समझाकर शांत किया। 

बनियापाड़ा में नोकझोंक 

यहां पुलिस लोगों को समझा ही रही थी कि बनियापाड़ा में दोनों समुदाय के लोगों में नोकझोंक हो गई। यहां लोग सीएए के विरोध की आड़ में की जा रही नारेबाजी से आक्रोशित हो गए। कुछ ही देर में सराय हकीम में कहासुनी हो गई। बाबरी मंडी में भीतनाव के हालात बन गए। सभी जगह पुलिस मौजूद थी और हालात को संभाला। मालती देवी ने कहा कि टोलियों में शामिल लोगों ने मंदिर पर ईंट-पत्थर मारे। सरकार से लड़ाई है तो वहां लड़ो। हमारे मंदिर पर पत्थर मारोगे तो हम भी बदला लेंगे। भाजपा मंडलअध्‍यक्ष देवेंद्र सैनी ने कहा कि रोजाना कहीं न कहीं प्रदर्शन हो रहा है, लेकिन हम खामोश हैं। धरना शांतिपूर्वक करें। जगह-जगह बदतमीजी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अशोक चौधरी ने कहा कि माहौल लगातार खराब किया गया। डेढ़ महीने से पुलिस की निष्क्रियता के चलते नाटक चल रहा है। प्रदर्शनकारियोंके हौसले बुलंद है। अशांति के लिए शहर की पुलिस जिम्मेदार है। 

आइसीसीसी की टीम  ने ड्रोन से रखी नजर

सेवा भवन स्थित इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (आइसीसीसी) में शनिवार को पुलिस व नगर निगम कर्मियों को दिए गए प्रशिक्षण के अगले दिन रविवार को ही इसकी जरूरत पड़ गई। ऊपरकोट पर बवाल के बाद देरशाम नगर आयुक्त सत्यप्रकाश पटेल की अगुवाई में आइसीसीसी की टीम अत्याधुनिक ड्रोन कैमरे लेकर बारहद्वारी स्थित पुराने नगर निगम कार्यालय पहुंच गई। यहीं से तीन नाइट विजन ड्रोन कैमरों की मदद से ऊपरकोट, घास की मंडी, अब्दुल करीम चौराहा आदि इलाकों पर नजर रखी गई। ये ड्रोन कैमरे रात में भी साफ तस्वीरें देने के साथ एक से डेढ़ किमी का एरिया कवर कर सकते हैं। ऊपरकोट पर पथराव के बाद सड़कों पर बिखरे पत्थर नगर निगम कर्मचारियों ने हटाए। जोनल अधिकारी अजीत राय की नेतृत्व में निगम की टीम धरनास्थल पर रखे तख्त, तिरपाल, फर्श आदि सामान वाहनों में लादकर ले गई। पुलिस अधिकारियों की निगरानी में कोतवाली के सामने साफ-सफाई करा दी गई। ऊपरकोट के मुख्य मार्ग पर भी कर्मचारियों ने सफाई की। जलाए गए खोखे का मलवा हटा दिया। 

शहर में हिंदू व्यापारी सहमे

िहंदुत्ववादी छात्र नेता विशाल देशभक्त ने सीएम योगी आदित्यनाथ को ट्वीट कर अलीगढ़ के हालात के बारे में बताया। कहा है, सीएम साहब कुछ करिए, यहां ङ्क्षहदू व्यापारी सहमा हुआ है। उसे अपनी दुकान और प्रतिष्ठान चलाना मुश्किल हो रहा है। एक महीने से बवाल चल रहा है। उपद्रवी दुकानें बंद करवा देते हैं, मारने की धमकियां दी जा रही हैं।