अलीगढ़, जागरण संवाददाता। गभाना थाना क्षेत्र के गांव खेड़िया हैवत खां में नलकूप पर सो रहे वृद्ध किसान की बुधवार रात हत्यारों ने धारदार हथियार से हत्या कर दी। गुरुवार सुबह स्वजन नलकूप पर पहुंचे तब उन्हें घटना की जानकारी हुई। सूचना पर इलाका पुलिस के अलावा एसपी सिटी, फोरेंसिक, एसओजी, डाग स्क्वायड की टीम ने पहुंचकर जानकारी की और साथ में साक्ष्य एकत्रित किए।

खेत में बने नलकूप पर ही सोते थे देशराज सिंह

गांव के 72 वर्षीय किसान देशराज सिंह गांव के पास खेतों पर बने नलकूप पर सोते थे। बुधवार रात में भी वह नलकूप पर सोने के लिए चले गए। रात्रि में अज्ञात हमलावारों ने धारदार हथियारों से उनके सिर पर प्रहार करके हत्या कर दी। सुबह नातिनी संध्या चाय लेकर नलकूप पर पहुंची तो चारपाई पर लहूलुहान अवस्था में बाबा का शव पड़ा देख उसकी चीख निकल पड़ी। संध्या रोती-बिलखती घर पहुंची और घटना की जानकारी स्वजन को दी। स्वजन व ग्रामीण मौके पर एकत्रित हो गए। सूचना पर इंस्पेक्टर गभाना एमपी सिंह के अलावा एसपी सिटी कुलदीप सिंह सिंह गुनावत, एसओजी, फोरेंसिक, डाग स्क्वायड की टीम भी मौके पर पहुंच गई और घटना से संबंधित साक्ष्य एकत्रित किए। स्वजन किसी प्रकार की रंजिश होने से साफ इंकार कर रहे हैं। हादसे के बाद स्वजन बेहाल हैं। किसान पांच बच्चों के पिता थे। एसपी सिटी कुलदीप सिंह गुनावत ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है जल्द वारदात का राजफाश होगा।

बरला में बीमार चल रहे अधेड़ ने फांसी लगाकर दी जान

बरला। थाना बरला के गांव परौरा में एक अधेड़ काफी समय से बीमार चल रहा था। दिमागी रूप से परेशान होकर उसने बिजली के खंभे से रस्सी का फंदा लगाकर जान दे दी। परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार कर दिया है।

थाना बरला के गांव परौरा के 60 वर्षीय दलवीर सिंह काफी समय से बीमार चल रहे थे। उनके दो लड़के शादीशुदा हैं। दोनों ही राजस्थान में फेरी लगाकर बाल खरीदते हैं। आरोप है कि अधेड़ ने अपने बेटों से बीमारी के इलाज के लिए कुछ रूपये मांगे। जिसपर उन्होंने रूपये देने की मना कर दिया। इसी बात से दलवीर काफी क्षुब्ध हो गये और बुधवार की देर रात्रि उन्होंने घर के सामने ही बिजली के खंभे में रस्सी का फंदा लगाकर फांसी लगाकर जान दे दी। सुबह रास्ते से गुजर रहे ग्रामीणों ने यह देखा तो अवाक रह गये। सूचना पर थानाध्यक्ष उमेश चंद्र शर्मा भी पहुंच गये और घटना के बारे में जानकारी की। थानाध्यक्ष ने बताया कि परिजन किसी प्रकार की कार्यवाई नहीं चाहते। पंचनामा भरकर शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया है।

Edited By: Anil Kushwaha