हाथरस, जेएनएन। प्रधानमंत्री साक्षरता मिशन के तहत सीएससी संचालकों द्वारा बुजुर्गों और निरक्षरों को दी जा रही है। आनलाइन पेमेंट,मोबाइल चलाने,सरकारी योजनाओं में पंजीकरण करने,पंचायत में संबंधित कार्यो की जानकारी लेने आदि की ट्रेनिंग दी जा रही है।

योजनाओं की दी जा रही जानकारी

देश की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर 75 सप्ताह पूर्व आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम पूरे देश में मनाया जा रहा है। उसी के क्रम में सीएससी ई- गवर्नेंस सर्विसेज इण्डिया लिमिटेड द्वारा संचालित कामन सर्विस सेंटरों द्वारा आज तीसरे दिन के कार्यक्रम के तहत प्रदेश समेत जनपद हाथरस मे प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता मिशन योजना के अन्तर्गत ग्रामीणों के निशुल्क पंजीकरण किए गए एवं उन्हें प्रशिक्षण दिलाया गया । कंप्यूटर शिक्षा में पात्रता हासिल करने के लिए पीएमजी दिशा योजना युवाओं व बुजुर्गों के लिए कारगर साबित हो रही है। मुफ्त में कंप्यूटर शिक्षा उपलब्ध करवाने के लिए सरकार की ओर से कॉमन सर्विस सेंटर पर इस योजना को चलाया जा रहा है। सेंटर संचालकों को निर्देश हैं कि इस योजना के बारे में लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करते हुए उन्हें कंप्यूटर शिक्षा के लिए प्रेरित किया जाए। मात्र 10 दिन की ट्रेनिग के बाद पात्र व्यक्ति का टेस्ट भी लिया जाएगा जिसके बाद उसे डिजिटल सर्टिफिकेट उपलब्ध कराया जाएगा। यह सर्टिफिकेट उन्हें भविष्य में अनेक कार्यों के लिए लाभकारी होगा।

आनलाइन पंजीकरण

महिला, दिव्यांग और अल्पसंख्यकों को इस योजना में प्राथमिकता दी जाती है। मुख्य रूप से प्रशिक्षण सीएससी सेंटरों के माध्यम से दिया जाता है। डिजिटल उपकरणों के संचालन के लिए सूचना व ज्ञान कौशल नागरिकों तक पहुंचाकर सशक्त बनाना ही इस योजना का मुख्य उद्देश्य है। सासनी से में कॉमन सर्विस सेंटर संचालक राकेश कुमार और कविता देवी ने बताया कि योजना के तहत अब तक वे अपनी पंचायत में 285 लोगों को इसका लाभ दिला चुके हैं, जिसमें अधिकांश 30 वर्ष की उम्र से नीचे हैं, लेकिन 50 साल की उम्र तक के लोग इसका लाभ ले सकते हैं। हाथरस की चारों तहसीलों में इस योजना को प्रत्येक ग्राम पंचायत में चलाया जा रहा है जहां पर ग्राम वासी इस योजना का लाभ रहे हैं। हाथरस में अभी तक 80349 लोगों ने इस योजना के तहत अपना पंजीकरण कराया है जिसमें से 70245 लोगों की ट्रेनिग पूरी हो चुकी है एवं 53449 लाभार्थी ट्रेनिग पूरी करने के बाद अपना एग्जाम दे चुके हैं और उन्हें कॉमन सर्विस सेंटर द्वारा प्रमाण पत्र दिया जा चुका है।

बहुत ही अच्छी योजना है और भारत को डिजिटल बनाने में उपयोगी साबित हो रही है। निश्शुल्क योजना का लाभ कोई भी व्यक्ति या महिला जिसकी आयु 14 से 50 वर्ष के मध्य हो, इसका लाभ उठा सकते हैं।

प्रदीप सिंह, जिला प्रबंधक, हाथरस।