अलीगढ़, जेएनएन।  मानसून की आहट के बीच मौसम के मिजाज में उतार-चढ़ाव चल रहा है। शुक्रवार रात आसमान पर बादल छाने व बूंदाबांदी के बाद अधिकतम तापमान में चार डिग्री तक गिरावट दर्ज हुई, मगर दिनभर उमस से पसीने छूटते रहे। कूलर-पंखे दम तोेड़ते दिखाई दिए। हालांकि, शाम को ठंडी पछुवा चलने से मौसम खुशगवार हो गया। रविवार को सुबह आसमान में बादल छाये रहे, रात से ही रिमझिम फुहारें पड रही थीं जिससे मौसम खुशगवार बना रहा, लेकिन उमस ने लोगों को परेशान किया।  मौसम विशेषज्ञों के अनुसार अगले चार-पांच दिनों तक आसमान पर बादल छाए रहेंगे। बूंदाबांदी व बारिश हो सकती है।

अधिकतम तापमान 36 डिग्री सेल्सियस

पिछले सप्ताह अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया।। गरम हवाओं के थपेड़ों ने शरीर झुलसाकर रख दिया। घर में गर्मी से लोग हलकान रहे। अब प्री मानसून की आहट के बीच आसमान पर बादल छाने शुरू हो गए हैं। गुरुवार रात तेज हवाओं के साथ बूंदाबांदी भी हुई। शुक्रवार सुबह सूरज ने अपने तेवर तो दिखाए, लेकिन बादल छाए रहने से चिलचिलाती धूप नहीं झेलनी पड़ी। हालांकि, हवा की रफ्तार धीमी होने से वातावरण में उमस छा गई। इससे लोगों के पसीने छूट गए। यही हाल शनिवार को भी रहा। घर के अंदर और बाहर कहीं भी गर्मी से राहत नहीं।

बीमारियों का खतरा

चिकित्सकों के अनुसार यह मौसम बैक्टीरिया व वायरस के पनपने के लिए अनुकूल है। स्वच्छता व डिहाइड्रेशन का ध्यान न रखा जाए तो उल्टी-दस्त व डायरिया का प्रकोप और बढ़ सकता है। मच्छरजनित बीमारियों-मलेरिया, डेंगू व चिकनगुनिया के मरीज भी इस मौसम में बढ़ने शुरू हो जाते हैं।

Edited By: Anil Kushwaha