अलीगढ़ जेएनएन: जब मुझे कोरोना वायरस संक्रमित होने की खबर मिली तो डर गया था। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम एंबुलेंस में हरदुआगंज कोरोना अस्पताल ले आई। तब भी मैं डरा हुआ था। एक-दो दिन उदास रहा। डॉक्टरों ने मनोस्थिति को पहचाना। मेरा साहस बढ़ाया। किसी ने पिता बनकर संभाला तो किसी ने भाई की तरह। हर जरूरत का ख्याल रखा, कोई परेशानी नहीं होने दी। आज जब मैं ठीक होकर अस्पताल से जा रहा हूं तो ऐसा लग रहा है कि घर से कहीं और जा रहा हूं। यह बात कोरोना को मात देकर हरदुआगंज कोरोना अस्पताल से विदा हुए गांव अलहदादपुर नींवरी के सलमान ने कही।

फूलमाला पहनाकर किया विदा

22 वर्षीय सलमान यहां 26 अप्रैल से भर्ती था। गुरुवार को दूसरी व शनिवार को तीसरी रिपोर्ट भी निगेटिव आने के बाद सलमान को अस्पताल से फूलमाला पहनाकर विदा किया गया। वह भावुक होकर बोला, सभी डॉक्टर व स्टाफ बार-बार फोन कर मेरी खैरियत व परेशानी के बारे में पूछते रहे। जिस चीज की जरूरत होती, वो उपलब्ध करा दी जाती। अच्छा खाना भी मिला।

Posted By: Sandeep Saxena

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस