हाथरस [जेएनएन]: कृषि विभाग में नियम विरुद्ध नौकरी कर रहे कर्मचारी को उप कृषि निदेशक ने शासन के आदेश पर बर्खास्त कर दिया है। नागरिक कल्याण एवं भ्रष्टाचार अपराध निवारण समिति के राष्ट्रीय महासचिव अजय कुमार शर्मा ने आठ जुलाई 2019 को शिकायत की थी। इसमें कहा था कि अशोक कुमार जैन कृषि विभाग में लिपिक पद पर कार्यरत थे। उनकी पत्नी बीना जैन स्वास्थ्य विभाग में एएनएम पद पर थीं। अशोक कुमार की मौत के बाद उनके बेटे मनीष जैन को कृषि विभाग में नौकरी मिल गई थी। बीना जैन की मृत्यु के बाद दूसरे बेटे विशाल जैन को स्वास्थ्य विभाग में नौकरी मिल गई, जो नियमों के विरुद्ध है।

डीएम ने कराई थी एडीएम से जांच
डीएम प्रवीण कुमार लक्षकार ने इस शिकायत की जांच एडीएम वित्त एवं राजस्व जेपी ङ्क्षसह को सौंपी थी। जांच आख्या में बताया गया कि अशोक कुमार जैन एवं बीना जैन दोनों सरकारी सेवा में थे। अशोक जैन की मृत्यु के बाद बेटे मनीष जैन ने आवेदन किया था, जिसमें आवेदक ने कहा था कि उनकी मां स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत हैं। ऐसे में मनीष का आवेदन पत्र अधिकारियों को निरस्त किया जाना चाहिए था, मगर ऐसा नहीं किया गया। यह कृत्य सरकारी सेवकों के आश्रितों की भर्ती नियमावली 1974 के नियम पांच एवं मृत सरकारी सेवकों के आश्रितों की भर्ती चतुर्थ संशोधन नियमावली 1994 के नियम पांच, एक का उल्लंघन है।


डीएम साहब ने जांच रिपोर्ट शासन को भेज दी। शासन के निर्देश पर मनीष जैन ने विभाग में नियुक्ति पाने के आरोप में बर्खास्त कर दिया गया है।
-डॉ. एनएन ङ्क्षसह, डिप्टी डायरेक्टर कृषि हाथरस।

Edited By: Sandeep Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट