अलीगढ़ [जेएनएन] क्षेत्र के गांव अंदौस में सोमवार की देर शाम सांड़ के हमले से एक और जान चली गई। एक बच्चे पर पहले सांड़ ने हमला किया। वह बचकर एक खंडहर में छिप गया। इसकी दीवार सांड़ों के झुंड ने गिरा दी, जिसमें दबकर बच्चे की मौत हो गई। सांड़ों को ग्र्रामीणों ने लाठी-डंडों से गांव से बाहर खदेड़ा। 10 दिनों में साड़ों के हमले से जिले में छह लोगों की मौत हो चुकी है। गांव के संजय सिंह का पुत्र 10 वर्षीय हरिओम शाम साढ़े छह बजे घर के बाहर खेल रहा था। तभी सांड़ आ गया। अन्य बच्चे तो बचकर भाग गए, लेकिन सांड़ ने हरिओम पर हमला कर दिया। जैसे तैसे वह बचकर पास ही स्थित एक खंडहर में छिप गया। लेकिन पांच-छह सांड़ों ने खंडहर की दीवार गिरा दी, जिसमें बच्चे के अलावा सांड़ भी दब गए। जानकारी होने पर ग्र्रामीण आ गए, जिन्होंने  साड़ों को भगाया। मलबे से निकालने से पहले ही बच्चे की मौत हो चुकी थी। चार भाई-बहनों में हरिओम दूसरे नंबर का था। वह गांव के ही प्राथमिक विद्यालय में कक्षा चार का छात्र था। इसकी मौत से गांव में मातम छा गया। पिता संजय व मां गीता देवी का रोरो कर बुरा हाल है।

 महिला को किया घायल

अकराबाद  के गांव कासिमपुर में एक सांड़ ने घर से घेर पर जा रही 65 वर्षीय कस्तूरी देवी पर हमला कर दिया। वृद्धा का इलाज कराया गया है। 

  बेसहारा पशुओं को अस्पताल में किया बंद 

संसू, अतरौली : आए दिन हो रहे हमलों से गुस्साए  बजे गांव रायपुर मुजफता के ग्र्रामीणों ने सोमवार को करीब 30 बेसहारा पशुओं को सरकारी अस्पताल (उप स्वास्थ्य केंद्र) में बंद कर दिए। कर्मचारियों की सूचना पर कुछ देर बाद ही पुलिस आने पर ग्र्रामीण भाग गए। पुलिस ने कर्मचारियों की मदद से पशुओं को अस्पताल से बाहर किया। 

Posted By: Sandeep Saxena

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस