अलीगढ़, जागरण संवाददाता। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के बिहार स्थित किशनगंज केंद्र में बेटियों के लिए बीएड व विधि पाठ्यक्रम भी जल्द शुरू कराएंगे। ये बात कुलपति प्रो. तारिक मंसूर ने किशनगंज केंद्र में अल्पसंख्यक बालिका छात्रावास का आनलाइन माध्यम से शिलान्यास करने के दौरान कही। उन्होंने कहा कि नए छात्रावास से अल्पसंख्यक छात्राओं, विशेष रूप से सीमांचल क्षेत्र की छात्राओं को बहुत मदद मिलेगी। क्योंकि महिला शिक्षा के लिए इस क्षेत्र में कई और शैक्षणिक संस्थानों की आवश्यकता है।

एएमयू के कुलपति ने बिहार के मुख्‍यमंत्री का जताया आभार

कुलपति ने बताया कि नए छात्रावास का निर्माण अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराए गए 10.50 करोड़ रुपये की राशि से किया जाएगा। उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि एएमयू सर सैयद अहमद खान द्वारा शुरू किए गए शिक्षा आंदोलन का एक हिस्सा है। समाज के पिछड़े वर्गों को शिक्षित करने के लिए ऐसे कई विश्वविद्यालयों की आवश्यकता है। किशनगंज केंद्र के निदेशक प्रो. हसन इमाम ने कुलपति व रजिस्ट्रार अब्दुल हमीद, वित्त अधिकारी मोहसिन खान, प्रो. अफीफुल्ला खान का आभार व्यक्त किया। इस दौरान यासिर इमाम,डा. ज़ेबा नाज़ आदि मौजूद रहे।

कागजों का उपयोग कम कर दस्‍तावेजों के डिजिटलाइजेशन पर चर्चा

अलीगढ़ । आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा शुरू हुए जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान के क्रम में मंगलवार को वेबिनार आयोजित हुई। स्मार्ट सिटी प्रबंधन व एएमयू इको क्लब के सहयोग से आयोजित वेबिनार में कागजों का उपयोग कम कर दस्तावेजों के डिजिटलाइजेशन पर चर्चा हुई। स्मार्ट सिटी के पीआरओ ओमैर इफ्तिखार के मुताबिक वेबिनार में स्मार्ट सिटी के सीईओ गौरांग राठी के अलावा इको क्लब के अध्यक्ष डा. अली जाफर मुख्य रूप से शामिल रहे। 70 से अधिक छात्रों ने भी भागीदारी की। वेबिनार में पैदल चलने, दौड़ने और साइकिल चलाने को बढ़ावा देने वाली प्रतियोगिताओं के अयोजन का प्रस्ताव रखा गया।

Edited By: Anil Kushwaha