अलीगढ़ (जेएनएन) : अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जेएन मेडिकल कॉलेज में ट्रॉमा सेंटर के बाहर स्कूटर वार तीन युवकों ने सिक्योरिटी गार्ड को बुरी तरह पीटा। वजह इतनी थी कि गार्ड ने युवकों को बैरियर पर रोक लिया था। हमलावरों ने पहले गार्ड का नाम पूछा था, फिर जमीन पर गिरा गिराकर पिटाई कर पीटा। गार्ड का मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है। पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

ट्रॉमा सेंटर के बाहर का है मामला

टप्पल क्षेत्र के गांव मानपुर निवासी प्रेमवीर सिंह जेएन मेडिकल कॉलेज में सिक्योरिटी गार्ड हैं। मंगलवार को उनकी ड्यूटी ट्रॉमा सेंटर के बाहर बैरियर पर थी। सुबह करीब साढ़े 11 बजे तीन युवक स्कूटर पर आए और अंदर जाने लगे। गार्ड ने युवकों को रोक लिया। तीनों दबंगई दिखाने लगे। गार्ड व युवकों के बीच बहस हुई। प्रेमवीर के अनुसार हमलावरों ने पहले उसका नाम पूछा था। नाम सुनते ही तीनों आपा खोकर बरस पड़े। लात-घूंसों से जमीन पर गिराकर पीटा। एक युवक के पास पिस्टल थी। प्रेमवीर जान बचाकर भागे। दूसरे गार्डों ने स्कूटी सवार युवकों को पकड़ा लिया, जिन्हें प्रॉक्टर ऑफिस ले गए। बाद में उन्हें छोड़ दिया गया। प्रेमवीर को आइसीयू में भर्ती कराया गया है।

रजिस्ट्रार ने जाना गार्ड का हाल

रजिस्ट्रार अब्दुल हमीद गुरुवार को मेडिकल में भर्ती गार्ड का हाल जानने पहुंचे। रजिस्ट्रार ने कहा कि जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इंस्पेक्टर सिविल लाइंस अमित कुमार ने बताया कि अनस व फराज समेत तीन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। आरोपियों की तलाश की जा रही है। 

हमलावर दो युवकों की हुई पहचान

एएमयू के प्रॉक्टर अफीफउल्लाह का कहना है कि नाम सुनकर पीटने की बात गलत है। फिर भी मामले को गंभीरता से लिया गया है। दो युवकों की पहचान हो गई है, जिनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

सख्ती होनी चाहिए कार्रवाई

रेजीडेंट डॉक्टर्स  एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. मोहम्मद हमजा का कहना है कि कसी का नाम पूछकर मारपीट करना लिंचिंग की तरह है। इस पर कुलपति व डीएम को गंभीरता से संज्ञान लेकर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

Posted By: Sandeep Saxena

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप