अलीगढ़, जागरण संवाददाता।  सिविल लाइन क्षेत्र के एक ट्रैवल एजेंसी के संचालक को मोबाइल फोन पर जान से मारने की धमकी देने व रंगदारी मांगने के मामले में पुलिस की टीमें जांच में जुटी है। पुलिस के मुताबिक, धमकी तिहाड़ जेल के आसपास वाले इलाके से दी गई थी। इसीलिए इंटरनेट मीडिया के सर्च इंजन पर तिहाड़ जेल लिखा आ रहा था। हालांकि नंबर बंद हैं। पुलिस इनकी लोकेशन खंगालने में लगी हैं।

11 जनवरी की रात की घटना

सिविल लाइन क्षेत्र के ट्रैवल एजेंसी के संचालक वसीम ने सिविल लाइन थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। इसमें कहा है कि एक नंबर से फोन आया और उनसे दो लाख रुपये प्रतिमाह की रंगदारी मांगी गई। वे चुप रहे। लेकिन, 11 जनवरी को रात नौ बजे उनके कार्यालय के बाहर खड़ी बस पर अज्ञात लोगों ने फायरिंग कर दी। नंबर को सर्च किया तो वह जुबैर तिहाड़ जेल का बताया जा रहा है। मामला अधिकारियों तक पहुंचा तो जांच शुरू की गई। इसमें ये स्पष्ट है कि नंबर दिल्ली का है। लोकेशन तिहाड़ जेल के आसपास की है। सीओ श्वेताभ पांडेय ने बताया कि जांच की जा रही है। जिस नंबर से काल आया था, उसकी लोकेशन खंगाली जा रही है।

दो नंबरों की तलाश

ट्रैवल एजेंसी संचालक को दो अलग-अलग नंबरों से फोन आया था। हालांकि दोनों नंबर बंद हैं। पुलिस की सर्विलांस टीम दोनों नबरों की तलाश में जुट गई है।

पहले भी दी जा चुकी है धमकियां

अगर ये धमकी तिहाड़ जेल से ही आई है, तो ये कोई पहला मामला नहीं है। दो साल पहले भी एएमयूकर्मी को तिहाड़ जेल से धमकी दी गई थी। तब एक लाख रुपये मांगे गए थे। इसमें तिहाड़ जेल में बंद आरोपित का नाम भी सामने आया। लेकिन, अभी तक कोई बात सामने नहीं आई। इस नए मामले के बाद पुलिस पुराने केस को भी खंगाल रही है।

Edited By: Anil Kushwaha