अलीगढ़, जेएनएन। डीएम चन्द्र भूषण सिंह जनपद में प्रसारित इंटरनेट मीडिया समेत प्रिंट व इलैक्ट्राॅनिक मीडिया की खबरों पर न केवल पैनी नजर रखते हैं, बल्कि तत्काल संज्ञान लेते हैं। तहसील कोल के ब्लाॅक लोधा के गांव नगला मंदिर में एक परिवार के 6 लोगों के भूखा रहने का प्रकरण जैसे ही मीडिया के माध्यम से डीएम के संज्ञान में आया तो उन्होंने गंभीरता से लिया।

योजनाओं का मिले लाभ

डीएम ने एसडीएम कोल कुवंर बहादुर सिंह, तहसीलदार जयप्रकाश व बीडीओ लोधा विनोद कुमार सिंह को तत्काल परिवार की मदद करने के निर्देश दिये। तत्काल प्रभाव से तीनों अधिकारियों को पीड़ित परिवार के घर भेजा। उन्होंने निर्देश दिये कि परिजनों के खान-पान समेत आवश्यकतानुसार उनके ईलाज की समुचित व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के स्पष्ट निर्देश हैं कि सभी पात्र व्यक्तियों को सरकार की लोक कल्याणकारी योजनाओं का शत-प्रतिशत लाभ दिया जाए। लोककल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में हीला-हवाली करने वाले अधिकारियों को किसी भी स्तर पर बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने प्रशासनिक टीम को निर्देश दिये कि परिवार की पात्रता की जांच करते हुए उसे राशन, पेंशन एवं अन्य योजनाओं से तत्काल लाभान्वित किया जाए।

डीएम ने मीडिया को दिया धन्यवाद

जिलाधिकारी ने मीडिया प्रतिनिधियों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि आज उन्होंने पीड़ित परिवार की इस खबर को प्रकाशित कर जनता की आवाज को उन तक पहुॅचाने का कार्य किया। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की खबरों को नकारात्मकता की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता, बल्कि इस प्रकार की खबरों से शासन एवं प्रशासन को जनता की परेशानियों का अहसास होता है और उनको लाभान्वित किये जाने में मदद मिलती है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार के पंचायतीराज विभाग के शासनादेश के अनुसार ग्रामीण अंचल में निवासरत परिवार को आर्थिक कठिनाई की वजह से उत्पन्न निर्धनता एवं भुखमरी की दशा में ग्राम पंचायत द्वारा राज्य वित्त आयोग के अन्तर्गत तत्काल 1000 रूपये की धनराशि उपलब्ध कराई जाएगी। जिलाधिकारी ने खण्ड विकास अधिकारी एवं जिलापूर्ति अधिकारी को निर्देशित किया है कि परिवार को समुचित मात्रा में खाद्यान्न उपलब्ध कराते हुए जाॅब कार्ड एवं राशन कार्ड बनाए जाएं।

अधिकारियों ने उपलब्ध कराई आर्थिक सहायता एवं खाद्यान्न

जिलापूर्ति अधिकारी राजेश कुमार सौनी द्वारा बताया गया कि जिलाधिकारी से निर्देश प्राप्त कर उन्होंने पीड़ित परिवार को आटा, दाल, चावल, नमक, मसाले, तेल उपलब्ध कराया गया है। इसके साथ ही राजस्व विभाग द्वारा भी उपरोक्त सामग्री उपलब्ध कराई गयी। खण्ड विकास अधिकारी विनोद कुमार द्वारा बताया गया कि वर्तमान में किसी भी परिजन का आधार कार्ड एवं बैंक खाता न होने के कारण फौरी तौर पर 5000 रूपये आर्थिक सहायता के रूप में नगद उपलब्ध कराए गये हैं। आधार कार्ड बनाए जाने के पश्चात पेंशन, राशन एवं मनरेगा जाॅब कार्ड बनाया जाएगा। सीएमएस डाॅ रामकिशन ने बताया कि पीड़ित परिवार को समुचित इलाज मुहैया कराया जा रहा है, जिससे उनकी हालत में सुधार है।

Edited By: Sandeep Kumar Saxena