अलीगढ़, जेएनएन। नगर निगम में ईंधन की खपत कम कर बचत की कवायद शुरू हो चुकी है। इसमें सफलता भी मिल रही है। दिसंबर माह में 22 लाख 74 हजार रुपये बचत की गई। सफलता मिलने से उत्साहित अफसरों ने आउटसोर्सिंग कर्मचारियों का वेतन बढ़ाने का निर्णय लिया है। अगले माह से कर्मचारियों को 308 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से वेतन मिलेगा। 

दैनिक जागरण ने की थी  पहल

दैनिक जागरण ने ''तेल का खेल'', ''कागजों पर दौड़ रहे निगम के वाहन'' शीर्षकों से ईंधन पर हो रहे अपव्यय का मुद्​दा उठाया था। नगर आयुक्त का प्रभार देख रहे एडीए वीसी प्रेम रंजन सिंह ने इसे गंभीरता से लेकर अपव्यय रोकने के प्रयास शुरू कर दिए। वेबजह दौड़ रहे कूड़ा उठाने वाले वाहनों पर अंकुश लगाया गया। ईंधन के आवंटन पर निगरानी बढ़ा दी गई। इससे ईंधन की खपत में कमी आयी है। नगर आयुक्त ने बताया कि नवंबर, 2020 में कूड़ा उठाने वाले वाहनों के ईंधन पर 85 लाख 40 हजार रुपये खर्च हुए थे। दिसंबर, 2020 में वाहनों पर 62 लाख 66 हजार रुपये खर्चा आया है। एक माह में 22 लाख 74 हजार रुपये की बचत हुई है। इसे 35 से 40 लाख रूपये प्रति माह करने का प्रयास किया जाएगा।

नगर निगम कर्मचारी संघ ने अभार जताया

नगर आयुक्त ने बताया मेयर, पार्षद व कर्मचारी नेताओं की मांग पर आउटसोर्सिंग के सामान्य कर्मचारियों को अगले माह से 308 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से वेतन दिया जाएगा। वेतन वृद्धि पर नगर निगम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष संजय सक्सेना, महामंत्री मानवेंद्र सिंह बघेल के नेतृत्व में पदाधिकारियों ने नगर आयुक्त का आभार व्यक्त किया।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप