जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : मानसूनी बारिश शुरू हो चुकी है लेकिन अभी तक शहर में 75 फीसद यानी 87 नाले साफ कराने का दावा किया जा रहा है। इन नालों की सफाई पर अनुमानित 52 लाख रुपये खर्च कर चुके हैं।

शहर में 117 बड़े और छोटे नाले हैं। इसमें 40 बड़े और 77 नाले छोटे हैं। इन नालों पर सफाई पर हर साल 70 लाख रुपये खर्च होते हैं। सफाई के लिए 30 मई का लक्ष्य रखा गया था लेकिन जून निकल गया है और अभी तक 87 नालों की सफाई का दावा किया जा रहा है। जिन नालों की सफाई नहीं हुई है, उनमें सराय लवरिया, मित्र नगर, मौलाना आजाद नगर, दुबे का पड़ाव, सूत मिल चौराहा, सर सैयद नगर, सुदामापुरी तिराहा, रेलवे स्टेशन से सेंटर प्वाइंट हैं। जामिया उर्दू के सामने नाले की सफाई के दौरान बोरे निकले हैं। नगर स्वास्थ्य अधिकारी शिव कुमार का कहना है कि अब तक 75 फीसद नाले साफ हो गए हैं। रविवार को वृहद सफाई अभियान चलाया जा रहा है। अतिक्रमण के कारण सफाई में दिक्कत आ रही है। नालों में लोग मलबा भी डाल रहे हैं, इससे दिक्कत आ रही है।

......

नालों की सफाई के नाम पर हर साल लाखों रुपये खर्च किए जाते हैं लेकिन सफाई नहीं होती है।

अंकुर अग्रवाल एक साल से नालों की सफाई नहीं हुई है। इसी कारण नाले कूड़े से अटे पड़े हैं। बारिश आने वाली हैं।

इकबाल अहमद

....... गौंडा रोड पर बिना बारिश के डूब रहे वाहन

अलीगढ़ : शाहजमाल के पास गौंडा रोड पर बिना बारिश के इतना पानी भरा हुआ है कि वाहन तक डूब रहे हैं। स्थानीय लोग कई बार अधिकारियों से मिल चुके हैं लेकिन कोई समाधान नहीं निकला है। बीच में एक बार पुलिया बनाकर पानी निकालने की कोशिश की गई लेकिन दूसरी बस्ती में पानी भर जाने के कारण उन लोगों ने विरोध किया। इस वजह से पुलिया को बंद करा दिया है। अब हालात और खराब हो गए हैं। स्थानीय निवासी शान मोहम्मद ने बताया कि शनिवार को जिलाधिकारी से भी मिले थे। उन्होंने आश्वासन दिया है लेकिन अभी तक मौके पर कोई प्रभावी कार्रवाई शुरू नहीं हो सकी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस