अलीगढ़ : महाकवि गोपालदास नीरज को 'भारत रत्न' दिलाने के लिए तेहरवीं (एक अगस्त) तक ढाई लाख लोगों के हस्ताक्षर कराने का लक्ष्य रखा गया है। मंगलवार को हरिद्वार में अस्थि विसर्जन के मौके पर हाथों में गंगाजल लेकर इसका संकल्प भी लिया गया। बुधवार शाम साढ़े पांच बजे से हस्ताक्षर अभियान की शुरुआत महाकवि के आवास 'गायत्री सदन' से होगा। मुहिम में नीरजजी के साहित्य पर पीएचडी करने वाले शोधार्थियों को भी जोड़ा जा रहा है। 11 अगस्त को यहां आ रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को यह मांग पत्र सौंपा जाएगा।

देश-दुनिया को प्रेम, अध्यात्म, भक्ति, सांप्रदायिक सौहार्द, बंधुत्व का संदेश देने वाले महाकवि नीरज बेशक अब सशरीर हमारे बीच नहीं, लेकिन वे दिलों में सबकी हमेशा जिंदा रहेंगे। पद्मभूषण व पद्श्री के साथ तीन फिल्म फेयर अवार्ड और दो बार यश भारती पुरस्कार से नवाजे जा चुके महाकवि के प्रशंसक मानते हैं कि नीरज देश के सबसे बड़े नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' के हकदार हैं। उन्हें यह मिलना ही चाहिये। इसके लिए 2012 में भी जनांदोलन चला था, जनांदोलन छेड़ दिया है। उनके अवसान के बाद यह मांग फिर जीवंत हो चुकी है। दो दिन पहले ही फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, वाट्सएप पर इस बारे में लोग समर्थन कर रहे हैं। अब यह मांग धरातल पर भी चलेगी।

महाकवि से आत्मीय रिश्ता रखने वाले ओजोन ग्रुप के वाइस चेयरमैन नासिर अब्बास ने हरिद्वार में अस्थि विसर्जन के बाद संकल्प लिया कि तेरहवीं तक ढाई लाख लोगों का भारत रत्न के समर्थन में हस्ताक्षर कराएंगे। अब्बास ने चिता की राख भी इसी संकल्प के साथ रखी हुई है कि जब तक पुरस्कार न मिलेगा, यह अपने पास रखेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण यहां डिफेंस कॉरिडोर की बैठक में 11 अगस्त को आएंगी, तब उन्हें मांग-पत्र सौंपेंगे।

---------- अमिताभ को भी मुहिम से जोड़ने की कोशिश

नासिर बताते हैं कि सदी के महानायक अमिताभ बच्चन से भी संपर्क की कोशिश हो रही है। नीरजजी के हरिवंशराय बच्चन के जमाने से संबंध रहे हैं। दोनों ने एक मंच साझा किया है। अमिताभ ने शोक संवेदना भी भेजी थी। लिहाजा, वे अगर इस मांग के साथ समर्थन देते हैं तो यह बात दूर तलक जल्द पहुंच जाएगी।

-----------

Posted By: Jagran