आगरा, जागरण संवाददाता। उप्र माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा रद हो गई है और परिणाम तैयार करने की कवायद चल रही है। ऐसे में बोर्ड ने बचे समय में पंजीकृत विद्यार्थियों के नाम में हुई वर्तनी त्रुटियों दूर करने का एक और मौका दिया है, इसके लिए वेबसाइट पर लिंक 15 जून से क्रियाशील होगा।

माध्यमिक शिक्षा सचिव दिब्यकांत शुक्ल ने सभी प्रधानाचार्यों को निर्देश दिए हैं कि वर्ष 2021 की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा में पंजीकृत विद्यार्थियों के नामों में यदि किसी प्रकार की वर्तनी त्रुटियां हैं, तो उन्हें सुधारने के लिए 15 से 17 जून तक तीन दिन के लिए बोर्ड वेबसाइट यूपीएमएसपी डाट ईडीयू डाट इन पर लिंक क्रियाशील कर दिया जाएगा। ऐसे में सभी प्रधानाचार्य आनलाइन अपलोड कराए गए विद्यार्थियों के नाम के विवरण का मिलन विद्यालय के मूल अभिलेखों से कर उनका नाम, माता व पिता के अंग्रेजी व हिंदी में अपलोड नामों की वर्तनी त्रुटियों को वेबसाइट पर आनलाइन सुधार लें। इसके बाद त्रुटियां सुधारने का दोबारा मौका नहीं दिया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि सिर्फ त्रुटियां सुधारी जाएंगी, पूरे नाम में परिवर्तन नहीं किया जा सकेगा।

अन्य बोर्ड के विद्यार्थियों के अंकपत्र होंगे अपलोड

उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि वर्ष 2021 की इंटरमीडिएट संस्थागत व व्यक्तिगत विद्यार्थियों के विवरण आनलाइन करने के दौरान उनके हाईस्कूल परीक्षा उत्तीर्ण करने का वर्ष, अनुक्रमांक व संबंधित बोर्ड का नाम अपलोड करने के निर्देश दिए गए थे। किन्हीं कारणों से विद्यालयों ने विद्यार्थियों से संबंधित उक्त तीनों विवरण अपलोड नहीं किए हैं या गलत अपलोड कर दिए हैं, वह भी उन्हें दोबारा जांचकर शुद्धता से पुन: अपलोड करें। माध्यमिक शिक्षा परिषद से भिन्न अन्य दूसरे बोर्ड से हाईस्कूल परीक्षा उत्तीर्ण विद्यार्थियों के संबंधित बोर्ड द्वारा निर्गत अंकपत्र को भी बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड करना होगा।

नहीं होगा अन्य संशोधन

माध्यमिक शिक्षा सचिव ने निर्देश दिए हैं कि माध्यमिक शिक्षा परिषद से संबंधित हाईस्कूल परीक्षा में जिन विद्यार्थियों के उत्तीर्ण परीक्षा वर्ष व अनुक्रमांक अपलोड कराए गए हैं, उनकी भी सत्यता की पूरी जांच विद्यालयीय अभिलेखों व मूल अंकपत्र से करा ली जाए। त्रुटि की स्थिति में उन्हें वेबसाइट पर संशोधित कर शुद्ध विवरण अपलोड किए जाए। इसके अतिरिक्त किसी अन्य विवरण में कोई संशोधन नहीं हो सकेगा। 

Edited By: Tanu Gupta