आगरा, जागरण संवाददाता। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में कई प्रधानों, ग्राम पंचायत सदस्यों, क्षेत्र पंचायत सदस्यों की किस्मत का फैसला हो गया है, तो दूसरे परिणाम देररात और सोमवार को आने की संभावना है। मतगणना शुरू होने के बाद विभिन्न राजनीतिक दलों के दिग्गजों की निगाहें आंकड़ों पर टिकी रहीं। मतगणना स्थल पर शार्गिद मुस्तैद थे तो खुद भी निकट डेरा डाले हुए थे। कुछ दिग्गज अपने स्थानों से ही पल-पल की खबर ले रहे थे।

पंचायत चुनाव में जिला पंचायत सदस्य और क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए कई दिग्गज स्वयं या स्वजन के माध्यम से किस्मत आजमा रहे हैं, तो विभिन्न पदों के प्रत्याशी परिणाम के इंतजार में डटे हैं। भाजपा, सपा, बसपा के कई दिग्गजों हर चक्र के बाद आंकड़ा खंगालने में जुटे थे। किस क्षेत्र की मतपेटिका खुली, वहां अपनी, स्वजन की स्थिति कुल मिले मतों का गणित लगाया जा रहा है। इससे आगामी चक्रों का अंदाजा भी लगाया जा रहा है। देररात तक आए परिणामों में अधिकतर प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य के हैं। इसके बाद ब्लाक प्रमुख पद के कुछ दावेदारों ने तो जोड़-तोड़ शुरू कर दी है, जबकि कुछ पहले से ही तालमेल बैठाए हुए थे। जिला पंचायत सदस्य का कोई भी परिणाम देररात तक नहीं आ सका, जिससे विभिन्न दलों के दिग्गजों की धड़कने तेज बनी हुई है। भाजपा के तो कई वरिष्ठों की प्रतिष्ठा सीधे दांव पर लगी हुई है। भाजपा से एक पूर्व सांसद और पूर्व विधायक की पुत्रवधू मैदान में हैं, तो पूर्व जिलाध्यक्ष की पत्नी भी किस्मत आजमा रहीं हैं। संगठन की एक महिला पदाधिकारी भी किस्मत आजमा रहीं हैं। सपा से जुड़ी एक पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष फिर मैदान में हैं, तो एक वरिष्ठ ने परिवार की महिला को मैदान में उतारा है। बसपा में भी कुछ वरिष्ठों के स्वजन भाग्य आजमा रही हैं। इसमें से अधिकतर की तैयारी जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए है। महिला सीट होने के कारण परिवार की महिला के सहारे आगामी गणित साधा जा रहा है। देररात तक आंकड़ों में सभी बढ़त बनाए हुए थे, लेकिन अधिकृत परिणाम का इंतजार है। अध्यक्ष पद के लिए कई दिग्ग्ज पहले से समीकरण साधे बैठे हैं, परिणाम आने के बाद जोड़-तोड़ तेज हो जाएगी।