आगरा, जागरण संवाददाता। ‘साहब, प्लेटफॉर्म नंबर चार पर बेंच पर एक युवक लेटा है। काफी देर से उसमें कोई हलचल नहीं हो रही है।’ आगरा कैंट स्टेशन पर वेंडरों ने स्टेशन अधीक्षक से इस युवक की मौत की आशंका जताई मगर लौहपथ के अफसर ने कोई संज्ञान नहीं लिया। गुरुवार दोपहर जब शव की बदबू ने यात्रियों को बेहाल कर दिया, तब अधिकारी हरकत में आए।

आगरा कैंट स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर चार पर बुधवार को बेंच पर व्यक्ति लेटा हुआ था। कई घंटों से उसके शरीर में कोई हरकत न होने पर वेंडरों ने रात करीब 10 बजे आरपीएफ को सूचना दी। इसके बाद रेलवे अधीक्षक को पूरी बात बताई और युवक की मौत होने की आशंका भी जताई।

गुरुवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे इसी प्लेटफॉर्म चार पर बदबू तेज हो गई। ट्रेन का इंतजार कर रहे यात्री यहां एक पल भी नहीं रुक पा रहे थे। यात्रियों ने देखा कि ये बदबू एक बेंच पर लेटे व्यक्ति की ओर से आ रही है। जाहिर था कि युवक मर चुका था। लाश देख यात्रियों ने हंगामा शुरू कर दिया। इस पर जीआरपी के जवान पहुंच गए, उन्होंने रेलवे अस्पताल के डॉक्टरों को बुला लिया। डॉक्टर ने चेक करने के बाद मृत घोषित कर दिया। करीब 15 घंटे बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। शव की शिनाख्त नहीं हो सकी है, उसके पास से कोई दस्तावेज नहीं मिले हैं।

कड़ी सुरक्षा, शव को देख फेरी आंखें

सुरक्षा के लिहाज से आगरा कैंट स्टेशन बेहद संवेदनशील है। कहने को यहां हर पल कड़ी सुरक्षा भी रहती है। आरपीएफ और जीआरपी के जवान प्लेटफॉर्म पर कड़ी निगरानी करते रहते हैं। ऐसे में भी बेंच पर शव 15 घंटों तक पड़ा रहा। शव को उठवाने की जरूरत भी न समझी। वेंडर तो ये भी कहते हैं कि उनकी बात को रात में ही गंभीरता से ले लिया होता, युवक को अस्पताल पहुंचाया जाता तो शायद उसकी जान बच जाती।

होगी सख्‍त कार्रवाई

निश्चित रूप से ये लापरवाही और संवेदनहीनता है। इस मामले की जांच कराकर दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। यह भी ध्यान रखा जाएगा कि भविष्य में इस तरह की संवेदनहीनता न हो।

एसके श्रीवास्तव, पीआरओ

 

Posted By: Tanu Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप