Move to Jagran APP

UP News: अब मीटर से छेड़छाड़ नहीं कर पाएंगे बिजली चाेर, चोरी होने पर अधिकारियों को गुप्त सूचना भेजेगा विजिल आई

बताया गया कि विजिल आई के माध्यम से बिजली चोरी को रोका जाएगा। उपभोक्ता के परिसर में स्थापित मीटर या जुड़े विद्युत तंत्र में किसी प्रकार की छेड़खानी को विजिल आई तत्काल पकड़ लेगा तथा विभागीय अधिकारियों को गुप्त सूचना प्राप्त हो जाएगी।

By Jagran NewsEdited By: Shivam YadavPublished: Fri, 26 May 2023 01:09 AM (IST)Updated: Fri, 26 May 2023 01:09 AM (IST)
बिजली चोरी को घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए विभाग के अधिकारियों को नई सौगात मिल गई है।

आगरा, जागरण टीम। प्रदेश में होने वाली बिजली चोरी को घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए विभाग के अधिकारियों को नई सौगात मिल गई है। दरअसल, दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड ने विजिल आई की शुरुआत की है। इसका श्रेय निगम के प्रबंध निदेशक अमित किशोर आईएएस का जाता है, जिनके माध्यम से ‘विजिल आई’ को विभाग के अधिकारियों तक पहुंचाया गया है।

बताया गया कि विजिल आई के माध्यम से बिजली चोरी को रोका जाएगा। उपभोक्ता के परिसर में स्थापित मीटर या जुड़े विद्युत तंत्र में किसी प्रकार की छेड़खानी को विजिल आई तत्काल पकड़ लेगा तथा विभागीय अधिकारियों को गुप्त सूचना प्राप्त हो जाएगी। इस प्रकार प्राप्त गुप्त सूचना के आधार पर उपभोक्ता परिसर पर छापेमारी की कार्रवाई की जाएगी।

विजिल आई की सूचना के आधार पर प्रबन्ध निदेशक अमित किशोर आईएएस के निर्देशानुसार छापेमारी के लिए आज 25 टीमें गठित की गई हैं। गठित विभागीय टीम को संदिग्ध उपभोक्ताओं के परिसर चेकिंग के लिए पासवर्ड प्रोटेक्टेड सूचना दी जाएगी, जिसका पासवर्ड क्षेत्रीय मुख्य अभियंता को प्रदान किया जाएगा। विजिल आई के प्रबंध निदेशक द्वारा शुरुआत किए जाने के प्रथम दिन ही रुपये 26 लाख का राजस्व निर्धारण किया गया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.